Pahaad Connection
Breaking News
अन्य

पेट्रोल पंप खोलने की पैक्स को मिली मंजूरी, एलपीजी डिस्ट्रीब्यूटरशिप भी मिलेगी

पेट्रोल पंप
Advertisement

प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी के ‘सहकार से समृद्धि’ के स्वप्न को साकार करने के लिए केन्द्रीय गृह एवं सहकारिता मंत्री श्री अमित शाह के मार्गदर्शन में सहकारिता मंत्रालय इस क्षेत्र से जुड़े हितधारकों के कल्याण के लिए हरसंभव प्रयास कर रहा है। इसी के तहत, गृह एवं सहकारिता मंत्री श्री अमित शाह ने पेट्रोलियम एवं प्राकृतिक गैस मंत्री श्री हरदीप सिंह पुरी के साथ एक अहम बैठक कर सहकारिता क्षेत्र के लिए कई अहम निर्णय लिए।

पैक्स को सशक्त करने के उद्देश्य से मौजूदा थोक पेट्रोल / डीज़ल डीलरशिप लाइसेंसधारी पैक्स (PACS) को रिटेल आउटलेट में बदलने के लिए पेट्रोलियम एवं प्राकृतिक गैस मंत्रालय ने सहमति दे दी है। इसके तहत मौजूदा पैक्स को अपने थोक उपभोक्ता पंपों को रिटेल आउटलेट में बदलने के लिए एक बार विकल्प दिया जाएगा।

सहकारिता मंत्रालय की पहल पर देश में पैक्स (PACS) तथा सहकारी चीनी मिलों के सुदृढीकरण हेतु पेट्रोलियम एवं प्राकृतिक गैस मंत्रालय ने कई कदम उठाए हैं। देश में सहकारिता आंदोलन को मज़बूत करने के लिए नए पेट्रोल / डीजल डीलरशिप के आवंटन में पैक्स को प्राथमिकता दी जाएगी। इसके साथ ही अब पैक्स को भी एलपीजी डिस्ट्रीब्यूटरशिप मिल सकेगी, इसके लिए पैक्स की पात्रता को मंज़ूरी मिल गई है। एक अन्य महत्वपूर्ण निर्णय में सहकारी चीनी मिलों को प्रोत्साहन देने के लिए उनके द्वारा उत्पादित इथेनॉल खरीद के लिए भी प्राथमिकता देने को सहमति दी गई और इथेनॉल ब्लेंडिंग कार्यक्रम के तहत पेट्रोलियम मंत्रालय सुनिश्चित करेगा कि सहकारी चीनी मिलों को इथेनॉल खरीद के लिए अन्य निजी कंपनियों के अनुरूप प्राथमिकता दी जाए। इसके अलावा अब PACS स्वयं भी खुदरा आउटलेट का संचालन कर सकेंगे।

Advertisement

 

 

Advertisement

पेट्रोलियम मंत्रालय एलपीजी डिस्ट्रीब्यूटरशिप के लिए पैक्स को पात्र बनाने के लिए नियमों में बदलाव भी करेगा और नए पेट्रोल / डीजल डीलरशिप के आवंटन में पैक्स को स्वतंत्रता सेनानी तथा स्पोर्ट्स कोटे के साथ कंबाइंड केटेगरी 2 (CC 2) श्रेणी में रखा जाएगा।

Advertisement

देश में सहकारिता आंदोलन को गति प्रदान करने की दिशा में गृह एवं सहकारिता मंत्री श्री अमित शाह के मार्गदर्शन में सहकारिता मंत्रालय ने प्राथमिक कृषि क्रेडिट समितियों (पैक्स) को मज़बूत करने के लिए कई और महत्वपूर्ण कदम भी उठाये हैं। पैक्स के लिए मॉडल बायलॉज़ बनाए गए हैं, जिनके माध्यम से देशभर की लगभग 1 लाख पैक्स ग्रामीण आर्थिक विकास का आधार बन सकेंगी और 25 से भी अधिक विभिन्न गतिविधियों के ज़रिए देश के 13 करोड़ से भी अधिक किसानों की आय बढ़ाने में सहायक सिद्ध होंगी।

इसके अलावा, पैक्स के हाथ मज़बूत करने के लिए सहकारिता मंत्रालय द्वारा पैक्स के कम्प्यूटरीकरण की केन्द्रीय प्रायोजित योजना चलाई जा रही है, जिससे पैक्स एक कॉमन नेश्नल सॉफ्टवेयर के माध्यम से नाबार्ड से जुड़ पाएंगी। इसके साथ ही, सहकारिता मंत्रालय ने इलेक्ट्रॉनिकी और सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय, नाबार्ड और सीएससी ई-गवर्नेंस सर्विसेज़ इंडिया लिमिटेड के साथ एक समझौता भी किया है, जिसके तहत सीएससी की 300 से भी अधिक ई-सेवाओं को पैक्स के माध्यम से ग्रामीण क्षेत्रों में आम जनता तक पहुँचाया जा सकेगा।

Advertisement

अमित शाह

सहकारिता मंत्रालय ने अगले पांच वर्षों में सभी पंचायतों/गाँवों में 2 लाख बहुद्देशीय पैक्स व प्राथमिक डेयरी/मत्स्यपालन सहकारी समितियाँ स्थापित करने का भी लक्ष्य रखा है। इसके साथ ही, जेम (GEM) पोर्टल पर सहकारी समितियों को खरीददार के रूप में शामिल किया गया है और पैक्स के स्तर पर भारत सरकार की विभिन्न योजनाओं का विकेंद्रीकरण भी किया जा रहा है।

Advertisement

मोदी जी के नेतृत्व में सहकारिता मंत्रालय द्वारा उठाये जा रहे क़दम पैक्स को मज़बूत बनाने के साथ-साथ उनके बहुउद्देशीय आर्थिक इकाइयां बनने का रास्ता भी प्रशस्त करेंगे, जिससे देश के करोड़ों किसानों की आय में वृद्धि होगी। श्री अमित शाह ने सहकारिता क्षेत्र का व्याप्त बढ़ाने और इसे मज़बूती प्रदान करने के लिए निरंतर सहयोग के लिए प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी का आभार प्रकट किया।

Advertisement
Advertisement

Related posts

भारती एक्‍सा लाइफ ने विद्या बालन के साथ एक नया एकीकृत कैम्‍पेन और सोनिक ब्राण्‍ड आइडेंटिटी को पेश किया

pahaadconnection

साउथ सुपर स्टार महेश बाबू हरिद्वार पहुंचे, Vip घाट पर अपनी मां की अस्थियां की विसर्जित।

pahaadconnection

भीषण समस्या है ग्लेशियरों की बाढ़ का मंडराता खतरा–ज्ञानेन्द्र रावत

pahaadconnection

Leave a Comment