Pahaad Connection
Breaking News
Breaking Newsउत्तराखंड

मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने राज्य वन्यजीव बोर्ड की बैठक आयोजित की

Advertisement

राज्य में मानव वन्यजीव संघर्ष की रोकथाम के मद्देनजर दो करोड़ का कार्पस फंड बनेगा
वन्यजीवों के हमले में मृत्यु पर अब छह लाख का मुआवजा दिया जाएगा

देहरादून। उत्तराखंड में वन्यजीवों के हमले में मृत्यु अथवा घायल होने के मामलों में मुआवजा राशि बढ़ाने के प्रस्ताव पर शनिवार को मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी की अध्यक्षता में होने वाली राज्य वन्यजीव बोर्ड की बैठक में मुहर लग गई। वहीं विश्व प्रसिद्ध शिकारी एवं संरक्षणवादी जिम कार्बेट की याद में राज्य में ट्रेल बनाने, राजाजी टाइगर रिजर्व के अंतर्गत चौरासी कुटी को अंतराष्ट्रीय स्तर पर पहचान दिलाने को भी बोर्ड की हरी झंडी मिली है। पर्यटन विभाग इनके प्रस्ताव बनाएगा। राज्य में मानव वन्यजीव संघर्ष की रोकथाम के मद्देनजर दो करोड़ का कार्पस फंड बनेगा। उत्तराखंड में वन्यजीवों के हमले में मृत्यु पर अब छह लाख का मुआवजा दिया जाएगा। मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी की अध्यक्षता में सचिवालय में हुई राज्य वन्यजीव बोर्ड की बैठक में यह निर्णय लिया गया। अभी तक मृत्यु पर चार लाख के मुआवजे का प्रविधान है। वहीं घायलों के मामले में भी मुआवजा राशि 50 हजार से बढ़ाकर एक लाख करने का निर्णय लिया गया है। इसके अलावा संरक्षित क्षेत्रों के एक किमी की परिधि में ईको सेंसिटिव जोन से सम्बंधित मामले में सरकार सुप्रीम कोर्ट में एसलपी दाखिल करेगी। इसके साथ ही जौलीग्रांट (देहरादून) एयरपोर्ट के विस्तारीकरण, कार्बेट टाइगर रिजर्व में जिम कार्बेट ट्रेल, चौरासी कुटी को अंतराष्ट्रीय स्तर पर पहचान दिलाने समेत कई बिंदुओं पर बैठक में निर्णय लिए गए। मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने कुछ समय पहले वन्यजीवों के हमले में मृत्यु पर दी जाने वाली मुआवजा राशि में एक लाख रुपये की वृद्धि कर इसे पांच लाख रुपये करने की घोषणा की थी। इसे देखते हुए वन विभाग ने प्रस्ताव तैयार किया है। गढ़वाल सांसद तीरथ सिंह रावत ने संसद के शीतकालीन सत्र के दौरान वन्यजीवों के हमले में दी जाने वाली मुआवजा राशि बढ़ाने संबंधी निजी विधेयक प्रस्तुत किया था। सांसद एवं पूर्व मुख्यमंत्री रावत कहा कि उत्तराखंड समेत देश के विभिन्न राज्यों में वन्यजीवों के हमले चिंता बढ़ा रहे हैं। इसकी रोकथाम के लिए प्रभावी कदम उठाने के साथ ही प्रभावितों को दी जाने वाली मुआवजा राशि में बढ़ोतरी किया जाना समय की मांग है। उन्होंने वन संरक्षण अधिनियम में संशोधन से संबंधित विधेयक भी सदन में प्रस्तुत किया था।

Advertisement
Advertisement

Related posts

प्रत्येक जनपद को शीतलहर से बचाव के लिये दिया जा रहा 10 लाख रुपये का अतिरिक्त बजट

pahaadconnection

मुख्यमंत्री सलाहकार समूह की पहली बैठक आयोजित

pahaadconnection

मंत्री ने किया प्रशिक्षणरत प्रशिक्षणार्थियों के साथ सीधा संवाद

pahaadconnection

Leave a Comment