Pahaad Connection
Breaking News
Breaking Newsउत्तराखंड

राष्ट्रीय वाल्मीकि क्रांतिकारी मोर्चा का 27वां स्थापना दिवस समारोह आयोजित

Advertisement

देहरादून, 28 जनवरी 2024। राष्ट्रीय वाल्मीकि क्रांतिकारी मोर्चा का आज राजधानी देहरादून के टाउन हाल में 27वां स्थापना दिवस समारोह आयोजित हुआ। समारोह में मुख्य अतिथि के रूप में उत्तराखण्ड राज्य के शहरी विकास एवं वित्त मंत्री डॉ. प्रेमचन्द अग्रवाल ने भाग लिया। मुख्य अतिथि ने सम्मेलन की शुरूआत दीप प्रज्जवलित कर की। इस अवसर पर राष्ट्रीय वाल्मीकि क्रांतिकारी मोर्चा के संस्थापक एवं राष्ट्रीय अध्यक्ष भगवत प्रसाद मकवाना, ने मुख्य अतिथि को स्मृति चिन्ह भेंट कर सम्मानित किया एवं प्रदेश अध्यक्ष राजेन्द्र केसला, राजीव राजौरिया, मदन वाल्मीकि, धर्मपाल घाघट, विनोद कुमार आदि ने पुष्प माला पहनाकर कैबिनेट मंत्री का सम्मेलन में स्वागत किया। इस अवसर पर राष्ट्रीय वाल्मीकि क्रांतिकारी मोर्चा ने मुख्य अतिथि को 15 सूत्रीय मांगपत्र सौंपा। सम्मेलन के मुख्य अतिथि कैबिनेट मंत्री डॉ. प्रेमचन्द अग्रवाल ने राष्ट्रीय वाल्मीकि क्रांतिकारी मोर्चा को 27वें स्थापना दिवस की बधाई देते हुए मोर्चा के कार्यो की प्रशंसा की। उन्होंने कहा कि क्रांतिकारी मोर्चा समाज के उत्थान के लिये जो कार्य कर रहा है वह निश्चित रूप से सराहनीय है। उन्होंने कहा कि वाल्मीकि समाज एवं सफाई कर्मियों की जो समस्याएं आज उठाई गयी है वह उस पर गम्भीरता पूर्वक विचार करेगे और जिस भी स्तर पर इन समस्याओं का समाधान होना है उन पर विचार किया जायेगा और जल्द से जल्द न्यायोचित मांगो को पूरा भी किया जायेगा। उन्होने कहा कि देश के प्रधानमंत्री भारत को एक विकसित राष्ट्र बनाने के लिये अनेक योजनाएं लागू कर रहे है । इन सभी योजनाओं को पात्र व्यक्ति तक पहुंचना चाहिए। इसके लिये समाजिक संगठनों को भी आगे आकर कार्य करना होगा। उत्तराखण्ड की धामी सरकार भी प्रत्येक वर्ग का उत्थान कर रही है। इस अवसर पर उन्होंने उत्तराखण्ड राज्य के पूर्व मुख्यमंत्री भगत सिंह कोश्यारी के दिनों को भी याद किया। एक प्रसंग को सुनाते हुए प्रेमचन्द अग्रवाल ने कहा कि जब कोश्यारी जी मुख्यमंत्री थे तो उस समय वह कहते थे कि ग्रामीण क्षेत्र में प्रेमचन्द अग्रवाल और शहरी क्षेत्र में विनोद चमोली जैसे नेता हो तो कोई भी व्यक्ति कभी चुनाव नहीं हार सकता। इस अवसर पर भगवत प्रसाद मकवाना ने अपने विचार व्यक्त करते हुए कहा कि राष्ट्रीय वाल्मीकि क्रांतिकारी मोर्चा अपने 27वें सम्मेलन के माध्यम से अयोध्या में एयर पोर्ट का नाम भगवान  महर्षि वाल्मीकि के नाम पर घोषित किये जाने तथा भगवान श्री राम के विग्रह की प्राण प्रतिष्ठा किये जाने हेतु देश के प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी का आभार एवं अभिनंदन करते है। उन्होंने कहा कि सम्मेलन के माध्यम से क्रांतिकारी मोर्चा यह बात भी उठाना चाहता है कि राज्य गठन के उपरांत सफाई कर्मचारियों की कोई भर्ती नहीं की गयी जबकि प्रदेश में राज्य गठन से पूर्व मात्र एक नगर निगम देहरादून था। अब लगभग 10 नगर निगम तथा नगर पालिका परिषद और नगर पंचायतों की संख्या बढ़कर 102 हो चुकी है। मानको व आबादी के अनुसार क्षेत्रफल को दृष्टिगत रखते हुए सफाई कर्मचारियों को स्थाई रोजगार नहीं दिया गया। इस अवसर पर उन्होने मुख्य अतिथि प्रेमचंन्द अग्रवाल को 15 सूत्रीय मांगपत्र भी प्रेषित किया। इस अवसर पर मुख्य रूप से धर्मपुर विधायक विनोद चमोली, राजपुर विधायक खजान दास, कैंट विधायक सविता कपूर, विशिष्ट अतिथि के रूप में मौजूद थी। कार्यक्रम में मुख्य रूप से प्रदेश कार्यकारी अध्यक्ष राकेश सिलेलान, प्रदेश प्रमुख महामंत्री मदन वाल्मीकि, राष्ट्रीय महामंत्री ओ.पी.सिसोदिया, राष्ट्रीय महामंत्री राजेश राजौरिया, राष्ट्रीय महामंत्री धर्मपाल घाघट, राष्ट्रीय महामंत्री विपिन चंचल, आदि मौजूद थे।

 

Advertisement

 

 

Advertisement
Advertisement

Related posts

विजय दिवस भारतीय सेना के साहस का प्रतीक

pahaadconnection

‘वन इन ए बिलियन’ फिल्म के निर्देशक ने की राज्यपाल से मुलाकात

pahaadconnection

उत्तराखण्ड प्रदेश कांग्रेस प्रभारी कुमारी सैलजा ने लिया चुनावी प्रचार का जायजा

pahaadconnection

Leave a Comment