Pahaad Connection
Breaking News
Breaking Newsदेश-विदेश

मेमोरी लॉस: 30 के बाद याददाश्त बनाए रखने के लिए नियमित रूप से इनका सेवन करें

Advertisement

मेमोरी लॉस यानी याददाश्त कमजोर होना यानी भूलने की बीमारी एक गंभीर समस्या है। यह ब्रेन एजिंग का संकेत है। 30 की उम्र के बाद दिमाग पर उम्र का असर साफ दिखने लगता है। साथ ही याददाश्त भी धीरे-धीरे कम होने लगती है।

इंसान के लिए जितना जरूरी शारीरिक स्वास्थ्य है, उतना ही जरूरी मानसिक स्वास्थ्य भी है। मस्तिष्क के स्वास्थ्य के लिए दैनिक देखभाल बहुत महत्वपूर्ण है। जैसे-जैसे आप बड़े होते जाते हैं, आपकी याददाश्त कमजोर होती जाती है। अत: तीस वर्ष की आयु के बाद स्मृति हानि को रोकने के लिए मानसिक स्वास्थ्य को बनाए रखने की आवश्यकता है। याददाश्त कमजोर होना एक गंभीर समस्या है। व्यक्ति ने किस वस्तु के लिए कहाँ रखा? उसे कई चीजें याद नहीं रहतीं जैसे कि वह कहां जाना चाहता था। यह ब्रेन एजिंग का संकेत है।
तीस की उम्र के बाद भूलने की समस्या होती है
मेमोरी लॉस यानी याददाश्त कमजोर होना यानी भूलने की बीमारी एक गंभीर समस्या है। यह ब्रेन एजिंग का संकेत है। विभिन्न शोधों के अनुसार,
30 की उम्र के बाद दिमाग पर उम्र का असर साफ दिखने लगता है। साथ ही याददाश्त भी धीरे-धीरे कम होने लगती है। इससे उनमें से अधिकांश भ्रमित हो जाते हैं और कई समस्याओं का सामना करते हैं।
शंखपुष्पी याददाश्त बढ़ाने वाली जड़ी-बूटी है
आयुर्वेद कहता है कि शंखपुष्पी याददाश्त बढ़ाने या मानसिक स्वास्थ्य को बनाए रखने के लिए एक अच्छी जड़ी-बूटी है, जो तीस के बाद कम हो जाती है।
शंखपुष्पी का प्रयोग भूलने की बीमारी और भ्रम तथा मानसिक स्वास्थ्य, मस्तिष्क के स्वास्थ्य को बनाए रखने, याददाश्त में सुधार के लिए प्रभावी है। लेकिन असली शंखपुष्पी का मिलना बहुत मुश्किल है।
तो आपकी रसोई में मौजूद कुछ सामग्री आपकी याददाश्त को बढ़ा सकती है। अपने दैनिक आहार में ऐसे खाद्य पदार्थों को शामिल करें। याददाश्त को तेज करने में मदद करते हैं ये फूड्स और मस्तिष्क की उम्र बढ़ने को धीमा कर देता है।
कॉफी दिमाग की सेहत के लिए अच्छी होती है
कॉफी पीने के कई स्वास्थ्य लाभ होते हैं। पबमेड में प्रकाशित शोध के अनुसार, कैफीन का सेवन मस्तिष्क को स्वस्थ रखने में मदद कर सकता है।
यह सतर्कता, मूड और फोकस बढ़ाने में मदद करता है। कॉफी पीने से तनाव दूर होता है। किसी भी विषय को हमेशा के लिए याद रखने में मदद करता है।
हल्दी का सेवन करने से याददाश्त तेज होती है
अगर आपको भूलने की समस्या है, अगर आपको कहीं रखी चीजें याद नहीं आ रही हैं, तो अपने आहार में हल्दी को शामिल करें। यह याददाश्त में सुधार करने में मदद करता है।
हल्दी में करक्यूमिन होता है। यह याददाश्त को तेज करता है। डिप्रेशन दूर करता है। यह मस्तिष्क स्वास्थ्य और मानसिक स्वास्थ्य को बनाए रखता है।
फूलगोभी और ब्रोकली खाना
ब्रोकली और पत्ता गोभी, फूलगोभी में विटामिन-के की मात्रा अधिक होती है। यह वसा में घुलनशील विटामिन याददाश्त को तेज रखने में मदद करता है।
कद्दू के बीज मस्तिष्क के स्वास्थ्य के लिए टॉनिक की तरह होते हैं
कद्दू के बीज एंटीऑक्सीडेंट से भरपूर होते हैं। यह दिमाग को फ्री रेडिकल डैमेज से बचाता है। इनमें मौजूद जिंक, मैग्नीशियम, कॉपर, आयरन जैसे पोषक तत्व तेज याददाश्त बढ़ाने में मदद करते हैं। कद्दू के बीज अन्य बीमारियों में भी मददगार होते हैं। इसलिए रोजाना इसका सेवन करें।
याददाश्त बढ़ाने के लिए खाएं संतरा
याददाश्त बढ़ाने के लिए खाने में संतरा शामिल करें और इसका सेवन करें। विटामिन सी से भरपूर यह फल ध्यान, याददाश्त और निर्णय लेने की शक्ति को बढ़ाता है।
Advertisement
Advertisement

Related posts

राज्यपाल ने दी सेना के जवानों को दीपावली की शुभकामनाएँ

pahaadconnection

Weight Loss: टमाटर खाएंगे तो क्या वजन कम होगा? पेश है विशेषज्ञ की राय

pahaadconnection

रक्त का नहीं कोई विकल्प : डॉ धन सिंह रावत

pahaadconnection

Leave a Comment