Pahaad Connection
Breaking News
Breaking Newsउत्तराखंड

अयोध्या में शुरू की ईवी सेवाएं

Advertisement

देहरादून 16 जनवरी। भारतीय लघु उद्योग विकास बैंक (सिडबी) अयोध्या (यूपी) में चल रहे उत्तर प्रदेश सरकार के ई-मोबिलिटी अभियान में शामिल हो गया है। हरित अयोध्या और खासकर अकुशल महिलाओं को हुनरमंद बनाने के उद्देश्य से, सिडबी ने ईटीओ मोटर्स का समर्थन करते हुए, अयोध्या में अपनी ईवी सेवाएं शुरू कर दी हैं। मुख्यमंत्री ने अयोध्या धाम में आयोजित एक कार्यक्रम के दौरान ईटीओ के ई-ऑटो सहित ई-मोबिलिटी से जुड़ी कई पहलों को हरी झंडी दिखाई। इस समारोह में सीजीएम डॉ. आर के सिंह के नेतृत्व में टीम लखनऊ आरओ और टीम ग्रीन शामिल रहीं। प्रदूषण घटाने के साथ-साथ पवित्र अयोध्या नगर में आवागमन को आसान बनाना इस पहल का उद्देश्य है। यूपी सरकार ने चार्जिंग इन्फ्रा और पार्किंग स्टेशन प्रदान किया है, जबकि सिडबी से सहायता प्राप्त ईटीओ आम लोगों के लिए ईवी ऑटो तक निर्बाध पहुंच की व्यवस्था करेगा। यह उल्लेख करना जरूरी है कि यूबर, जिसके साथ हमने उसके एग्रीगेटर्स को ई-मोबिलिटी की गहरी पैठ बनाने के लिए एमओयू किया है, अपने मैचमेकिंग प्लेटफॉर्म के माध्यम से इस पहल को शक्ति प्रदान करेगा। अपनी रोजी-रोटी का सफर शुरू करने वाले प्रशिक्षित ड्राइवरों की आंखों में चमक देख कर बड़ा गर्व महसूस हुआ। इस कदम से अयोध्या आने वाले लाखों लोगों के बीच पर्यावरण के प्रति जवाबदेही बढ़ने की अपेक्षा की जा रही है। इस अवसर पर सिडबी के सीएमडी श्री शिवासुब्रमण्यन रामन ने संदेश दिया कि “परिवहन क्षेत्र को कार्बन मुक्त बनाना समय की मांग है, और सिडबी ने भारत में इलेक्ट्रिक मोबिलिटी अपनाने की दिशा में प्रोत्साहित करने के लिए कई पहले शुरू की हैं। इन पहलों का उद्देश्य यह है कि ईवी पारिस्थितिकी तंत्र को सस्ती दरों पर पूंजी उपलब्ध कराई जाए, ईवी ऋण की सुरक्षा के लिए शेल फाउंडेशन से सहायता प्राप्त जोखिम साझाकरण की सुविधाएं मुहैया कराई जाएं, तथा छोटे कस्बों/ग्रामीण भारत की उद्यमी महिलाओं के सफर में साथ निभाया जाए। ईवी तक किफायती पहुंच प्रदान करके सिडबी आखिरी सिरे तक पहुंचने का प्रयास करता है। यह पहल पूरे भारत का ध्यान खींच रही है। इसके लाभार्थियों में लास्ट-माइल डिलिवरी और कनेक्टिविटी प्रदान करने वाले, उपयोगकर्ताओं को वाहन किराए पर देने वाले, बैटरी स्वैप करने वाले स्टेशन, चार्जिंग पॉइंट ऑपरेटरों के जैसे सक्रिय उद्यमी तथा समर्पित ई-मोबिलिटी केंद्रित एनबीएफसी शामिल हैं।” पंचामृत मिशन के अनुरूप, सिडबी ने अपने पंच-तत्व मिशनों के माध्यम से ऋण की पहुंच का डिजिटलीकरण करने और उद्यम के पारिस्थितिकी तंत्र को हरित बनाने की प्राथमिकता अंगीकार की है, यानी इलेक्ट्रिक वाहनों, ऊर्जा दक्षता, सौर ऊर्जा, प्रकृति का पालन-पोषण (प्रौद्योगिकी के नाते) करना और अपशिष्ट को पर्यावरण के अनुकूल बनाना। EV30@30 वाले राष्ट्रीय मिशन के अनुरूप, सिडबी ई-मोबिलिटी के इको सिस्टम को मजबूत करने के लिए 50KEV4ECO चलाता है। सिडबी ने अखिल भारतीय स्तर पर कई मॉडलों का समर्थन किया है। इसने एनबीएफसी को किफायती फंड प्रदान करके लास्ट-माइल अधिग्रहण की लागत घटाने का प्रयास किया है। ईटीओ उन लाभार्थी उद्यमों में से एक है, जिसका मथुरा, वाराणसी (दिल्ली में मौजूदगी के अलावा) में अपनी गहरी पैठ बनाने का सपना परवान चढ़ रहा है। ईटीओ मोटर्स एक सर्विस (ईमास) कंपनी के रूप में इलेक्ट्रिक मोबिलिटी का और एक सर्विस कंपनी के रूप में एनर्जी का नेतृत्व करती है, जो पर्यावरण-हितैषी इलेक्ट्रिक मोबिलिटी और संबंधित ऊर्जा/चार्जिंग समाधान प्रदान करने पर ध्यान केंद्रित कर रही है। ईटीओ मोटर्स समाज में पारिस्थितिक, सामाजिक और टिकाऊ रूप से सकारात्मक बदलाव लाने का प्रयास कर रही है। ईटीओ मोटर्स को सिडबी का समर्थन न केवल कार्बन उत्सर्जन घटाएगा, बल्कि महिलाओं को आजीविका के अवसर प्रदान करके उन्हें सशक्त भी बनाएगा।गौरतलब है कि सिडबी के सहयोग से हाल ही में अयोध्या के लड्डू को जीआई टैग मिल चुका है। इससे लड्डू को अंतर्राष्ट्रीय पहचान मिली है और इस मूल्य श्रृंखला से जुड़े कारीगरों की कदर और कीमत भी बढ़ गई है।

 

Advertisement
Advertisement

Related posts

‘कृषक प्रशिक्षण एवं बीज वितरण’ कार्यक्रम का आयोजन

pahaadconnection

जांबाज पुलिस ऑफिसर हैं स्वप्न किशोर सिंह

pahaadconnection

जोशीमठ संकट को राष्ट्रीय आपदा घोषित करने संबंधी याचिका पर सुनवाई से उच्चतम न्यायालय का इनकार

pahaadconnection

Leave a Comment