Pahaad Connection
Breaking Newsउत्तराखंड

सैनिक स्कूल में फुटबॉल टूर्नामेंट का समापन

Advertisement

देहरादून। सैनिक स्कूल घोड़ाखाल में ग्रुप बी (जोनल) फुटबॉल टूर्नामेंट का आयोजन किया गया, जिसमें विभिन्न सैनिक स्कूलों की टीमों के बीच कौशल और उत्साह का शानदार प्रदर्शन देखने को मिला। इस प्रतियोगिता में भाग लेने वाली स्कूलों की टीमों ने शानदार प्रदर्शन किया। सेना के चौबटिया ब्रिगेड के कमांडर ब्रिगेडियर राहुल कुमार पाठक ने मुख्य अतिथि के रूप में कार्यक्रम की शोभा बढ़ाई। सैनिक स्कूल घोड़ाखाल के प्रधानाचार्य ग्रुप कैप्टन वीएस डंगवाल ने मुख्य अतिथि का स्वागत किया। श्रीमती श्वेता डंगवाल सम्मानित अतिथि के रूप में कार्यक्रम में उपस्थित रहीं। अन्य प्रतिष्ठित अतिथि भी टीमों के उत्कृष्ट प्रदर्शन को देखने के लिए स्कूल अधिकारियों के साथ शामिल हुए। अंडर 17 बालक वर्ग में अंतिम लीग मैच सैनिक स्कूल घोड़ाखाल व सैनिक स्कूल झुंझुनूं के बीच खेला गया। सैनिक स्कूल घोड़ाखाल ने सैनिक स्कूल झुंझुनूं को 2-0 से हराकर चैंपियनशिप ट्रॉफी जीती। लीग अंकों के आधार पर सैनिक स्कूल झाँसी उपविजेता रहा। सैनिक स्कूल घोड़ाखाल के कैडेट अनीश रावत को ‘सर्वश्रेष्ठ खिलाड़ी’ का पुरस्कार दिया गया। सैनिक स्कूल घोड़ाखाल के कैडेट अदार खत्री ‘सर्वोच्च स्कोरर’ रहे और सैनिक स्कूल घोड़ाखाल के कैडेट सोनू कपकोटी ने ‘सर्वश्रेष्ठ गोलकीपर’ का खिताब जीता। सैनिक स्कूल घोड़ाखाल ने अंडर 17 बालिका वर्ग में भी चैंपियनशिप ट्रॉफी जीती। सैनिक स्कूल झुंझुनूं उपविजेता रहा। सैनिक स्कूल घोड़ाखाल की कैडेट सृष्टि बमेटा को ‘सर्वश्रेष्ठ खिलाड़ी’ चुना गया। सैनिक स्कूल झुंझुनू के कैडेट तियारा टोकस ‘सर्वोच्च स्कोरर’ रहे और सैनिक स्कूल घोड़ाखाल के कैडेट यांगचान ल्हामो ने ‘सर्वश्रेष्ठ गोलकीपर’ का खिताब जीता। अंडर 15 बालक वर्ग में सैनिक स्कूल झुंझुनूं ने चैंपियनशिप ट्रॉफी जीती। मुख्य अतिथि द्वारा विजेताओं को पुरस्कार एवं मेडल प्रदान किये गये। समारोह को संबोधित करते हुए मुख्य अतिथि ने छात्रों में टीम वर्क, अनुशासन और खेल भावना को बढ़ावा देने में खेल के महत्व को रेखांकित किया। उन्होंने उत्कृष्ट प्रदर्शन के लिए सभी टीमों की सराहना की और उन्हें बधाई दी। प्रिंसिपल सैनिक स्कूल घोड़ाखाल ग्रुप कैप्टन वीएस डंगवाल ने निष्पक्ष खेल और आपसी सम्मान के मूल्यों पर जोर देते हुए पूरे टूर्नामेंट में उनके अनुकरणीय आचरण के लिए सभी भाग लेने वाली टीमों के प्रति आभार व्यक्त किया। कार्यक्रम का समापन मार्च पास्ट और प्रधानाचार्य सैनिक स्कूल घोड़ाखाल द्वारा मुख्य अतिथि को स्कूल स्मृति चिन्ह भेंट करने के साथ हुआ।

 

Advertisement

 

 

Advertisement
Advertisement

Related posts

राजभवन में आयोजित हुआ स्वच्छता ही सेवा अभियान

pahaadconnection

मां भुवनेश्वरी के दर्शन करना चाहते हैं, उत्तराखंड में यहाँ स्थित है प्रसिद्द मंदिर

pahaadconnection

जिला पंचायत सदस्यों के प्रशिक्षण वर्ग का दूसरा चरण हरिद्वार में होगा शुरू

pahaadconnection

Leave a Comment