Pahaad Connection
Breaking News
उत्तराखंड

जिलाधिकारी अनुराधा पाल ने खिलाडिय़ों का परिचय कराते हुए सोबन सिंह जी यूनिवर्सिटी इंटर कॉलेज बैडमिंटन टूर्नामेंट का उद्घाटन किया।

Advertisement

बागेश्वर ।

जिलाधिकारी अनुराधा पाल ने शुक्रवार  को इंडोर स्टेडियम में सोबन सिंह जीना विष्वविद्यालय अन्तर महाविद्यालयी बैडमिंटन प्रतियोगिता का खिलाडियांे से परिचय प्राप्त कर शुभारंभ किया। प्रतियोगिता में विभिन्न महाविद्यालयांे की पुरूश वर्ग की 8 तथा महिला वर्ग में 4 टीमों के 51 खिलाडी प्रतिभाग कर रहे है। उद्घाटन मैच बागेष्वर व पिथौरागढ के मध्य खेला गया, जिसमें पिथौरागढ की टीम विजयी रही।

Advertisement

खिलाडियों को संबोधित करते हुए जिलाधिकारी ने कहा कि इस प्रकार के आयोजनों से खेल प्रतिभाओं को आगे आने का अवसर मिलता है। खिलाडियों में खेल भावना के साथ ही आपसी सामंजस्य भी बढता है। उन्होंने प्रतिभागियों को षुभकामनाएं देते हुए कहा कि जीवन में आगे बढें, अपने जनपद व राज्य के साथ-साथ अपने राश्ट्र का नाम भी रोषन करें।

Advertisement

उन्होंने कहा इस तरह के खेल प्रतियोगिताएं होती रहनी चाहिए, जिससे बच्चों की खेल के प्रति रूचि बढे़ तथा देष मंे एक बेहतर खेल संस्कृति का विकास हो सके। इससे तन-मन तो स्वस्थ रहता ही है साथ में देष के लिए योग्य नेतृत्वकर्ता, समन्वयकर्ता, उत्साही और लक्ष्य के प्रति समर्पित स्वस्थ नागरिक भी प्राप्त होते है। उन्होंने कहा खेल ही एक ऐसा माध्यम है जो नषे की प्रवृत्ति के साथ-साथ नकारात्मक सोच को भी दूर करता है तथा षारीरिक व मानसिक रूप से सक्रिय रहने में महत्वपूर्ण है। उन्होंने कहा खिलाडियों की सफलता से क्षेत्रवासियांे, राज्यवासियों एवं देष की भावनाएं जुडती है, एक खिलाड़ी की सफलता से अन्य खिलाडी भी प्रोत्साहित होते है, इसलिए सभी खिलाडी खेल भावना के साथ खेलते हुए खेल के क्षेत्र में नई बुलंदियां हासिल करें।

Advertisement

कार्यक्रम में विश्वविद्यालय के क्रीडा प्रमुख लियाकत अली ने खेल प्रतियोगिता की विस्तृत जानकारी देते हुए उपस्थित सभी अतिथियों का आभार व्यक्त किया।
इस अवसर पर प्राचार्य महाविद्यालय बागेश्वर डॉ0 एसएस धपोला, खेल अधिकारी सीएल वर्मा, डॉ0 भगवती नेगी, डॉ0 रेखा भट्ट, डॉ0 मनोज टम्टा, डॉ0 लक्ष्मण देव, डॉ0 ओमप्रकाष, डॉ0 गीता वृथ्वाल, डॉ0 महेष चन्द्र, पूर्व छात्र संघ अध्यक्ष सौरभ जोषी समेत महाविद्यालयों के प्राध्यापक व खिलाडी मौजूद थे।

Advertisement
Advertisement

Related posts

साहित्यकार चन्द्रकुंवर बर्त्वाल के साहित्य को समेटने में “तुंगनाथी” का महत्वपूर्ण योगदान

pahaadconnection

नमामि गंगे प्रोजेक्ट की साइट पर फैला करंट, दरोगा समेत 16 की मौत, कई लोग झुलसे

pahaadconnection

मसूरी मे आग की भेंट चढ़ा होटल

pahaadconnection

Leave a Comment