Pahaad Connection
Breaking News
Breaking Newsउत्तराखंड

जोशीमठ के बाद उत्तराखंड के इस इलाके में भी धंसना शुरू हुई जमीन

जोशीमठ
Advertisement

उत्तराखंड का जोशीमठ का इलाका पिछले कई दिनों से भू धंसाव से प्रभावित है। उत्तराखंड सरकार द्वारा अभी इस समस्या से निजात पाने की कोशिश करी ही जा रही है की जोशीमठ के आसपास के भी कई इलाके जमीन धंसने के खतरे की ज़द में आ गये हैं। जोशीमठ जैसे ही हालात यहाँ से कुछ दूरी पर स्तिथ सेलंग गाँव में भी देखे जा रहे हैं।

 

यहां न केवल घरों में बल्कि घरों के साथ साथ खेतों में दरारें देखी जा रही हैं। बद्रीनाथ राष्ट्रीय राजमार्ग पर मौजूद सेलंग गाँव के निवासी वर्तमान हालात से काफी डरे हुए और जोशीमठ में पैदा हुए संकट के हालातों ने उनके डर को और बढ़ा दिया है। सेलंग गाँव के निवासियों का मानना है की NTPC के तपोवन-विष्णुगढ़ जलविद्युत परियोजना के चलते ही गाँव में भू धंसाव हो रहा है।

Advertisement

सेलंग निवासी विजेंद्र लाल के अनुसार इस परियोजना की सुरंगें गांव के नीचे बनाई गई हैं। उन्होंने बताया की इन सुरंगों में से एक के मुहाने के पास राष्ट्रीय राजमार्ग पर स्थित एक होटल जुलाई, 2021 में ढह गया और नजदीक का पेट्रोल पंप भी आंशिक रूप से क्षतिग्रस्त हुआ। लाल के कहे अनुसार  ढह गए होटल के पास स्थित घरों को भी खतरा है। आगे वो बताते हैं की ‘‘गांव के नीचे एनटीपीसी की नौ सुरंगें बनी हैं। सुरंगों के निर्माण में बहुत सारे विस्फोटकों का इस्तेमाल किया गया था जिससे गांव की नींव को नुकसान पहुंचा है।’’

सेलंग गांव के वन पंचायत सरपंच शिशुपाल सिंह भंडारी इस विषय पर बात करते हुए बताते हैं की ‘‘नुकसान करीब एक दशक पहले उस समय शुरू हुआ था, जब एनटीपीसी ने इलाके में सुरंग खोदनी शुरू की थी। लोगों ने विरोध किया तो एनटीपीसी ने एक निजी कंपनी के माध्यम से घरों का बीमा करवाया। लेकिन, अब जब मकानों में दरारें आ रही हैं तो वह मकान मालिकों को मुआवजा देने से बच रहा है।’’

Advertisement
Advertisement

Related posts

मातली में बनाया गया अस्थाई सीएम कैंप कार्यालय

pahaadconnection

अमृत कुंभ स्मारिका 2023 भक्ति विशेषांक स्मारिका का विमोचन

pahaadconnection

मीनोपॉज यानी बढ़ती उम्र में हार्मोनल असंतुलनः डॉ. सुजाता संजय

pahaadconnection

Leave a Comment