Pahaad Connection
Breaking News
Breaking Newsदेश-विदेश

अडानी संकट पर सवाल पूछने वालों को आनंद महिंद्रा ने ट्वीट कर दिया जवाब

आनंद महिंद्रा
Advertisement

समूह का बाजार पूंजीकरण 108 अरब डॉलर गिर गया भारत की क्षमता पर ग्लोबल मीडिया उठा रहा है सवाल  महिंद्रा को पहले भी कई दिक्कतों का सामना करना पड़ा है

फिलहाल अमेरिकी शॉर्ट सेलिंग फर्म हिंडनबर्ग रिसर्च की एक रिपोर्ट ने देश के बिजनेस सेक्टर में खलबली मचा दी है। रिपोर्ट में दावा किया गया है कि अडानी ग्रुप दशकों से शेयर बाजार और अकाउंट फ्रॉड में शामिल है। इससे अडानी ग्रुप के शेयरों में भारी गिरावट आई है और इसका मार्केट कैप 100 अरब डॉलर से ज्यादा गिर गया है। शेयर बाजार में मौजूदा गिरावट की वजह से भारत भी मार्केट कैप के आधार पर दुनिया के टॉप 5 देशों में शामिल नहीं हो पाया है। यह पहले ही इस लिस्ट में छठे स्थान पर आ चुकी है। सवाल यह है कि भारत का बढ़ता बिजनेस सेक्टर इस चुनौती से कैसे पार पाएगा.. क्या इससे भारत की आर्थिक महाशक्ति बनने की महत्वाकांक्षा को ठेस पहुंचेगी? महिंद्रा ग्रुप के चेयरमैन आनंद महिंद्रा ने एक ट्वीट कर इसका जवाब दिया है।

अडानी संकट को लेकर भारत की आर्थिक व्यवस्था पर सवाल उठाने वालों को जवाब दिया
पद्म विभूषण से सम्मानित महिंद्रा ने अडानी संकट के सहारे भारत की आर्थिक मजबूती पर सवाल उठाने वालों को कड़ा जवाब दिया है। बेधड़क बोलते हुए महिंद्रा ने एक ट्वीट में कहा कि वैश्विक मीडिया में कयास लगाए जा रहे हैं कि क्या कारोबारी क्षेत्र की चुनौती भारत के आर्थिक महाशक्ति बनने के सपने को पूरा कर सकती है। मैंने भूकंप, अकाल, मंदी, युद्ध और आतंकवादी हमले देखे हैं। मैं बस इतना ही कहूंगा कि भारत के खिलाफ कभी भी दांव नहीं लगाना चाहिए। इस तरह महिंद्रा ने अडानी संकट के बहाने सरकार की आर्थिक नीति पर सवाल उठाने वाले जो लोग विदेशों में हैं उनको जवाब दिया है। ट्विटर पर उनके एक करोड़ से ज्यादा फॉलोअर्स हैं।

Advertisement

108 बिलियन डॉलर का झटका
हिंडरबर्ग रिसर्च ने अदानी समूह की प्रमुख कंपनी अदानी एंटरप्राइजेज के 20,000 करोड़ रुपये के एफपीओ से पहले अपनी रिपोर्ट जारी की। हालांकि, अडानी ग्रुप ने इस रिपोर्ट को झूठा बताते हुए खारिज कर दिया और इसे भारत के खिलाफ साजिश बताया। हालांकि अडानी इंटरप्राइजेज का एफपीओ पूरी तरह से सब्सक्राइब हो गया था, लेकिन अडानी ने नैतिकता को ध्यान में रखते हुए इसे वापस लेने और निवेशकों को पूरी राशि लौटाने का फैसला किया है। लेकिन हिंडरबर्ग रिसर्च की रिपोर्ट की वजह से अडानी ग्रुप का मार्केट कैप 108 अरब डॉलर घट गया है। अडानी भी दुनिया के सबसे अमीर लोगों की लिस्ट में तीसरे नंबर से 21वें नंबर पर पहुंच गए हैं।

Advertisement
Advertisement

Related posts

उत्तराखंड में बादल फटने से भारी तबाही

pahaadconnection

जंगलों में आग की घटनाएं बढ़ती है तो एनडीआरएफ की ली जाएगी मदद

pahaadconnection

एसएसपी की नशे के विरुद्ध मुहिम को आगे बढ़ाती दून पुलिस

pahaadconnection

Leave a Comment