Pahaad Connection
Breaking Newsदेश-विदेशराजनीति

महाराष्ट्र: चुनाव आयोग के फैसले के बाद अमित शाह पर उद्धव ठाकरे का हमला, बोले- ‘मोगेंबो खुश हुआ’…मैंने हिंदुत्व को नहीं, बीजेपी को छोड़ा!

चुनाव
Advertisement

शुक्रवार को चुनाव आयोग ने मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे गुट को वास्तविक शिवसेना के तौर पर मान्यता देते हुए पार्टी के चुनाव चिह्न ‘धनुष बाण’ को भी उसे ही आवंटित कर दिया था। इस फैसले के बाद उद्धव ठाकरे के गुट में हड़कंप मच गया है। उद्धव गुट की ओर से एक के बाद एक नेता अपनी प्रतिक्रिया दे रहे है और चुनाव आयोग के फैसले को ‘अन्याय’ करार दे रहे है। वहीं, उद्धव ठाकरे की भी प्रतिक्रिया सामने आई है। उन्होंने कहा कि शिवसेना के मामले में चुनाव आयोग के फैसले के बाद सभी पार्टियों को अपनी आंखे खुली रखने और सतर्क रहने की जरूरत है।

सभी पार्टियों को अपनी आंखे खुली रखनी चाहिए: ठाकरे

जानकारी के मुताबिक, रविवार को उद्धव ठाकरे ने उत्तर भारतीय समुदाय के लोगों से संवाद करते हुए कहा कि, शिवसेना के साथ, हमारे साथ जिस तरह से व्यवहार हुआ है वह आपके साथ भी हो सकता है। उन्होंने कहा कि, सभी पार्टियों को अपनी आंखे खुली रखनी चाहिए और सभी को सतर्क रहने की जरूरत है। भाजपा पर निशाना साधते हुए उन्होंने कहा कि, आप मेरे पिता का चेहरा चाहते है, लेकिंन उनके बेटे का नहीं। आप के साथ आने को मैं तैयार था, परंतु अपनें पिता को दिये गये वादों को जब मैं पूरा करता चाहता था तब आप मुझे धोखा देगें तो मैं क्या करता? माना जा रहा है कि, चुनाव आयोग का फैसला उद्धव ठाकरे के लिए झटके के समान है। क्योंकि उनके पिता बाल ठाकरे ने साल 1966 में इस पार्टी की स्थापना की थी।

Advertisement

‘घर के मालिक को ही चोर बना दिया’

उद्धव ठाकरे ने कहा कि, शिवसेना को मेरे पिता ने सींचा है। और शिवसैनिकों ने समर्थन किया है, परंतु अब वे मालिक बनने की कोशिश कर रहे है, और हमारी संस्थाएं ऐसी हैं कि घर के मालिक को ही चोर बना दिया है। उन्होंने कहा कि देश में जो भी हो रहा है। अच्छा है क्योकिं लोग आक्रोशित है और अनुभव कर रहे है कि गलत हुआ है। इसके साथे ही केन्द्रीय गृहमंत्री अमित शाह को आड़े हाथ लेते हुए उद्धव ठाकरे ने कहा कि चुनाव आयोग के आदेश पर मुगैम्बो खुश हुआ है। उन्होंने आगे कहा कि, मैंने  हिंदुत्व को नहीं। बीजेपी को छोड़ा है। मैं विभाजित करने वाले हिंदुत्व को स्वीकार नहीं करता। चुनाव के समय बीजेपी हिंदुओं को ‘हिजाब’, ‘गो हत्या’ का मुद्दा उठाकर भ्रमित कर रही है, परंतु अब लोग जाग चुके है। उन्होंने सवाल किया कि देश में अब शक्तिशाली नेता शासन कर रहे हैं तो फिर लोगों में ‘आक्रोश’ क्यों है।

Advertisement
Advertisement

Related posts

सीएम शिवराजसिंह चौहान G-20 के तहत कृषि समूह की पहली बैठक की कराएंगे शुरुआत

pahaadconnection

सशस्त्र सेना झंडा दिवस के अवसर पर वीर सैनिकों को किया सम्मानित

pahaadconnection

भाजपा सरकारों को लोकतंत्र में विश्वास नहीं : नवीन जोशी

pahaadconnection

Leave a Comment