Pahaad Connection
Breaking Newsउत्तराखंड

हवा महल खूबसूरत वास्तुकला वाली एक इमारत : नरेश बंसल

Advertisement

देहरादून। राज्यसभा सांसद नरेश बंसल ने आज राजस्थान के जयपुर मे विश्व ख्याति प्राप्त हेरिटेज हवा महल देखा। उन्होंने कहा की भारत देश के राज्य राजस्थान की राजधानी जयपुर के गुलाबी शहर में स्थित यह हवा महल खूबसूरत वास्तुकला एवं आकर्षक नक्काशी वाला एक इमारत है। हवा महल की खास बात यह है कि यह दुनिया में किसी भी नींव के बिना बनी सबसे ऊंची इमारत है। जयपुर में स्थित इस हवामहल को राजस्थान के सबसे प्राचीन इमारतों और आकर्षक इमारतों में से एक माना जाता है। इस हवामहल में 900 से भी अधिक खिड़कियां होने के वजह से इस महल को ‘पैलेस ऑफ विंड्केस’ नाम से भी जाना जाता है। इस हवामहल को सामने से देखने पर इसका दृश्य मधुमक्खी के छत्ते की तरह दिखता है। इस हवामहल का निर्माण 1799 ईस्वी में करवाया गया था। इस हवामहल को महाराजा सवाई जयसिंह के पोते महाराजा सवाई प्रताप सिंह निर्माण करवाया था।

इसके उपरांत राज्यसभा सांसद नरेश बंसल ने 221 साल पहले बने सुप्रसिद्ध जलमहल को देखा। भारत में ऐसी कई एतिहासिक इमारतें हैं, जो बेहद ही खास और अनोखी हैं। उत्तराखंड से लेकर राजस्थान से लेकर कन्या कुमारी तक ऐसी एतिहासिक इमारतों की भरमार है, जो सैकड़ों साल पुरानी हैं और कुछ तो हजारों साल। यहीं इमारतें भारत की आन-बान और शान भी कहलाती हैं और विरासत भी। जलमहल राजस्थान की राजधानी जयपुर के मानसागर झील के मध्‍य स्थित प्रसिद्ध ऐतिहासिक महल है। अरावली पहाडिय़ों के गर्भ में स्थित यह महल झील के बीचों बीच होने के कारण ‘आई बॉल’ भी कहा जाता है।इस महल का निर्माण सवाई जयसिंह ने अश्वमेध यज्ञ के बाद करवाया था।

Advertisement

 

 

Advertisement

 

Advertisement
Advertisement

Related posts

5892 पोलिंग स्टेशन को वेबकास्टिंग में लिया जायेगा : जोगदंडे

pahaadconnection

पद्म श्री पुरस्कार से सम्मानित प्रेम चंद शर्मा ने की राज्यपाल से मुलाकात

pahaadconnection

छात्र छात्राओं को दी यातायात सम्बन्धी जानकारी

pahaadconnection

Leave a Comment