Pahaad Connection
Breaking Newsउत्तराखंड

सहस्त्रताल ट्रेक पर चल रहा रेस्क्यू ऑपरेशन समाप्त

Advertisement

देहरादून। सहस्त्रताल ट्रेक पर चल रहा रेस्क्यू ऑपरेशन समाप्त हो गया है। ट्रैकिंग पर गए 22 ट्रेकर्स में से 11 को कल ही एयरलिफ्ट कर लिया गया था व 02 ट्रेकर्स को एम्बुलेंस द्वारा भटवाड़ी पहुँचाया गया था, इसके अतिरिक्त 05 ट्रेकर्स के शवों को भी हैली के माध्यम से भटवाड़ी पहुँचा दिया गया था। आज प्रातः पुनः रेस्क्यू अभियान चलाते हुए शेष 04 ट्रेकर्स के शवों को भी हैली द्वारा भटवाड़ी पहुँचा दिया गया है।

उच्च हिमालयी क्षेत्र में स्थित सहस्त्रताल की ट्रैकिंग के दौरान मौसम खराब होने के चलते रास्ता भटकने से नौ ट्रैकरों ने जान गंवा दी। सूचना मिलने पर प्रशासन ने रेस्क्यू अभियान चलाकर 13 ट्रैकरों को सुरक्षित निकाल लिया। इनमें से 11 को एयरलिफ्ट किया गया था। दो को वन विभाग की टीम पैदल लेकर पहुंची। पांच के शव बुधवार को ही मिल गए थे, जबकि लापता चार ट्रैकर्स के शव आज भटवाड़ी लाए गए। रेस्क्यू ऑपरेशन समाप्त होने पर एसडीआरएफ की टीम भी उत्तरकाशी पहुंच गई है l टीम के अनुसार, आज वेंकटेश प्रसाद (53), पदमांधा कृष्णमूर्ति (50), अनिता रंगप्पा (60) और पद्मिनी हेगड़े (34) के शव लाए गए हैं। जबकि सिंधु वाकेलाम, आशा सुधाकर, सुजाता मुंगरवाडी, विनायक मुंगुरवाडी और चित्रा प्रणीत के शव बुधवार को लाए गए थे।

Advertisement

बीते 29 मई को कर्नाटक और महाराष्ट्र के ट्रैकरों का 22 सदस्यीय दल मल्ला-सिल्ला से कुश कल्याण बुग्याल होते हुए सहस्त्रताल की ट्रैकिंग के लिए रवाना हुआ था। दो जून को दल सहस्त्रताल के कोखली टॉप बेस कैंप पहुंचा था। इनमें से 20 ट्रैकर्स तीन जून को सहस्त्रताल के लिए रवाना हुए थे, लेकिन अचानक मौसम खराब होने से घने कोहरे और बर्फबारी के बीच सभी फंस गए। समुचित व्यवस्था नहीं होने से पूरी रात उन्हें ठंड में काटनी पड़ी थी। जिसके चलते नाै ट्रैकर्स की माैत हो गई।

 

Advertisement

 

 

Advertisement

 

 

Advertisement
Advertisement

Related posts

डीसीपी दीक्षा शर्मा ने इंडियन वैद्य के आगामी हेम्प एक्सपो 2023 के लिए शुभकामना दी

pahaadconnection

दो मासूम बच्चियों की गला दबाकर हत्या करने वाला हैवान पिता लखनऊ से गिरफ्तार

pahaadconnection

22 जनवरी तक चालू रहेगा मन्दिरो में स्वच्छता अभियान : महेन्द्र भट्ट

pahaadconnection

Leave a Comment