Pahaad Connection
Breaking Newsउत्तराखंड

अमरनाथ यात्रा: आतंकियों पर नकेल कसने के लिए बनी नई रणनीति

Advertisement

जम्मू, 17 जून। 29 जून से शुरू होकर 19 अगस्त को समाप्त होने वाली अमरनाथ यात्रा का सुचारू संचालन मोदी सरकार के लिए बड़ी चुनौती है इसलिए सरकार ने पूरी तरह कमर कस ली है। यात्रा की तैयारियों की समीक्षा के बाद केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने कहा है कि नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व वाली सरकार की प्राथमिकता अमरनाथ यात्रा का सुचारू संचालन सुनिश्चित करना और श्रद्धालुओं को हिमालय के गुफा मंदिर की यात्रा के दौरान किसी भी कठिनाई का सामना करने से बचाना है। हम आपको बता दें कि अमरनाथ यात्रा की तैयारियों की समीक्षा के लिए दिल्ली में बुलाई गई एक बैठक में अमित शाह ने सुरक्षा एजेंसियों को सतर्क रहने और दक्षिण कश्मीर के हिमालय में स्थित गुफा मंदिर की तीर्थयात्रा के लिए कर्मियों की पर्याप्त तैनाती सुनिश्चित करने का निर्देश दिया। हम आपको बता दें कि यह बैठक जम्मू-कश्मीर में हाल के आतंकवादी हमलों के मद्देनजर आयोजित की गई थी। उल्लेखनीय है कि हमलों में नौ लोगों की जान चली गई और कई घायल हो गए थे।
जम्मू में सुरक्षा स्थिति की समीक्षा के तुरंत बाद हुई बैठक में अमित शाह ने कहा, “मोदी सरकार की प्राथमिकता यह सुनिश्चित करना है कि श्री अमरनाथ यात्रा के श्रद्धालु आसानी से दर्शन कर सकें और उन्हें किसी भी कठिनाई का सामना न करना पड़े।” उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री मोदी के नेतृत्व में सरकार श्रद्धालुओं के लिए सुविधाजनक और परेशानी मुक्त अनुभव सुनिश्चित करने और अमरनाथ तीर्थयात्रा के प्रबंधन में पर्यावरण-अनुकूल उपाय अपनाने के लिए प्रतिबद्ध है। हम आपको बता दें कि बैठक में राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजित डोभाल, जम्मू-कश्मीर के उपराज्यपाल मनोज सिन्हा, केंद्रीय गृह सचिव अजय भल्ला, खुफिया ब्यूरो के निदेशक तपन डेका, थल सेनाध्यक्ष जनरल मनोज पांडे और थल सेनाध्यक्ष (नामित) लेफ्टिनेंट जनरल उपेन्द्र द्विवेदी उपस्थित थे। इस बैठक के बाद विश्व हिंदू परिषद ने इस बात का विश्वास जताया है कि अमरनाथ यात्रियों को कोई दिक्कत नहीं होगी।
जहां तक संपूर्ण जम्मू-कश्मीर की सुरक्षा स्थिति की बात है तो आपको बता दें कि केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने इस बारे में कहा है कि जम्मू-कश्मीर में आतंकवाद के खिलाफ लड़ाई अपने निर्णायक चरण में है और हाल ही में हुई घटनाओं से पता चलता है कि आतंकवाद बड़ी संगठित आतंकी हिंसाओं से सिमट कर महज एक छद्म लड़ाई रह गया है। केंद्र शासित प्रदेश में, हाल में हुए आतंकवादी हमलों के मद्देनजर सुरक्षा स्थिति की समीक्षा के लिए ‘नॉर्थ ब्लॉक’ में एक उच्च स्तरीय बैठक के दौरान अमित शाह ने सुरक्षा एजेंसियों को सफलता हासिल करने के वास्ते कश्मीर की तर्ज पर जम्मू संभाग में भी आतंकी गतिविधियों पर पूरी तरह से नकेल कसने की नीति को लागू करने का निर्देश दिया। अमित शाह ने कहा कि सरकार आतंकवाद को जड़ से खत्म करने के लिए प्रतिबद्ध है। अमित शाह ने कहा कि नरेन्द्र मोदी सरकार नए तरीकों से आतंकवादियों पर नकेल कसने के लिए प्रतिबद्ध है। गृह मंत्री अमित शाह ने सुरक्षा एजेंसियों को मिशन मोड पर काम करने और समन्वित तरीके से त्वरित प्रतिक्रिया सुनिश्चित करने का निर्देश दिया।

Advertisement
Advertisement

Related posts

माँं बूंखाल कालिंका मेला

pahaadconnection

वर्तमान समय मे सोशल मीडिया की महत्वपूर्ण भूमिका : करन माहरा

pahaadconnection

राष्ट्रीय ग्राम स्वराज अभियान के प्रशिक्षण में हुआ सम्मान

pahaadconnection

Leave a Comment