Pahaad Connection
Breaking News
उत्तराखंड

हरिद्वार में सावन के बीच गंगाजल की कमी, गाद से नहाना भी मुश्किल

Advertisement

सावन का महीना शुरू होते ही कांवड़ की यात्रा भी शुरू हो गई है। हरिद्वार जिला प्रशासन का कहना है कि पहले दिन करीब चार लाख कांवड़ियों ने गंगाजल लिया। वहीं, गाद के कारण श्रद्धालु स्नान नहीं कर सके।
सावन का पावन महीना शुरू होते ही गुरुवार को मां गंगा के जयकारे के साथ कांवर की यात्रा भी शुरू हो गई. हरिद्वार जिला प्रशासन का दावा है कि पहले दिन ही करीब चार लाख कांवड़ियों ने गंगाजल लिया और अपने गंतव्य के लिए रवाना हो गए. उधर, गंगा में भारी मात्रा में गाद घुसने के बाद उत्तर प्रदेश के सिंचाई विभाग ने हरकी पड़ी की ओर आने वाले गंगा के पानी को रोक दिया.
इससे हरकी पड़ी समेत अन्य घाटों पर गंगा जल संकट खड़ा हो गया और स्नान करने पहुंचे श्रद्धालुओं को मायूस होना पड़ा. हालांकि शाम को गाद गिरने के बाद भीमगोड़ा बैराज का गेट खोल दिया गया। हरकी पाडी में जिला प्रशासन के अधिकारियों और श्रीगंगा सभा के पदाधिकारियों ने गुरुवार को गंगा आरती और गंगा मैया के जय उद्घोष के साथ कांवड़ मेला का शुभारंभ किया. कांवड़ मेला प्रकोष्ठ के प्रभारी बीएल भारती ने बताया कि सावन माह के पहले दिन चार लाख कांवड़ियां हरिद्वार पहुंचीं.

घाटों पर गंगाजल की कमी से कांवड़ियां मायूस

Advertisement

पहाड़ों में लगातार हो रही बारिश से हरिद्वार में गंगा में गाद की मात्रा बुधवार को 7960 पीपीएम पर पहुंच गई. इसके बाद देर रात उत्तर प्रदेश के सिंचाई विभाग ने भीमगोड़ा बैराज से हरकी पड़ी तक खुलने वाले नाले को बंद कर दिया. इससे गुरुवार को हरकी पड़ी समेत अन्य घाटों पर गंगाजल इतना नीचे चला गया कि नहाने आए सभी कांवड़ियों को डुबकी लगाने से वंचित कर दिया गया. हालांकि बाद में जब गाद की मात्रा कम हुई तो शाम को गंगा जल की आपूर्ति सामान्य हो गई।
20 जुलाई के बाद बढ़ेगी भीड़

ज्योतिषी डॉ. प्रतीक मिश्रापुरी का कहना है कि शुक्रवार से पंचक शुरू हो जाएगा। इससे गुरुवार को कांवड़ियों की भारी भीड़ उमड़ी। अब 20 जुलाई को पंचक समाप्त होने के बाद एक बार फिर कांवड़ियों की संख्या में इजाफा होगा.

Advertisement

नीलकंठो में 50 हजार कांवड़ियों तक पहुंचने का दावा

कांवर यात्रा के पहले दिन यह दावा किया गया है कि ऋषिकेश के नीलकंठ मंदिर में लगभग 50 हजार कांवरियों द्वारा भगवान भोलेनाथ का अभिषेक किया गया था। श्रद्धालुओं की भीड़ बढ़ने के कारण मंदिर परिसर में चार लाइन लगानी पड़ी। इस बीच ऋषिकेश-हरिद्वार हाईवे पर पैदल और वाहनों पर भी राहगीरों की भीड़ नजर आने लगी है.

Advertisement

मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने कहा, ‘मैं भगवान शिव से सभी भक्तों की सुखद और शुभ कांवर यात्रा के लिए प्रार्थना करता हूं. सभी कांवड़ियों से अनुरोध है कि स्वतंत्रता के 75वें वर्ष में मनाए जा रहे ‘अमृत महोत्सव’ के अवसर पर कांवड़ यात्रा में राष्ट्रीय ध्वज तिरंगे को सम्मानपूर्वक शामिल करें। इस यात्रा को पर्यावरण संरक्षण के लिए समर्पित करें और देवभूमि की धारा पर एक पौधा लगाने का संकल्प लें। ‘

Advertisement
Advertisement

Related posts

अधिकारियों के लिये एक दिवसीय प्रशिक्षण का आयोजन

pahaadconnection

मंत्रिमण्डल की बैठक : वर्षा जल संरक्षण के लिए बनेंगे हजारों चैक डैम

pahaadconnection

पीएम ने किया सशक्त उत्तराखंड के विमोचन के साथ ही और ब्रांडहाउस ऑफ हिमालयाज लांच

pahaadconnection

Leave a Comment