Pahaad Connection
Breaking News
उत्तराखंड

माँ डाट काली सिद्धपीठ मंदिर

Advertisement

मां काली के चमत्कारी शक्तिपीठ के रूप में जाना जाता है डाट काली मंदिर
मां डाट काली उत्तराखण्ड सहित पश्चिम उत्तर प्रदेश की ईष्ट देवी

देहरादून। डाटकाली मंदिर हिन्दुओ का एक प्रसिद्ध मंदिर है, जो कि सहारनपुर देहरादून हाईवे रोड पर स्थित है यह मंदिर देहरादून से 14 किमी की दूरी पर स्थित है। डाट काली मंदिर देहरादून के प्रसिद्ध मंदिरों में से एक है। यह मंदिर माँ काली को समर्पित है, इसलिए मंदिर को काली का मंदिर भी कहा जाता है एवम् काली माता को भगवान शिव की पत्नी “देवी सती” का अंश माना जाता है | माँ डाट काली मंदिर को “मनोकामना सिद्धपीठ” व “काली मंदिर” के नाम से भी जाना जाता है| मां डाट काली मंदिर की विशेषता यह है कि यहां एक दिव्य ज्योति 1921 से लगातार जल रही है। यह मंदिर देहरादून-सहारनपुर रोड़ के किनारे पर स्थित है इसलिए जो भी व्यक्ति यहां से जाता है मां काली का आर्शीवाद जरूर पा लेता है और मंदिर में तेल, घी, आटा व अन्य वस्तु चढाता है। नवरात्री के त्योहार के अवसर पर यहां बहुत बड़ी संख्या में लोग आते है, कभी कभी तो राजमार्ग को भी बन्द करना पडता है। नवरात्री के त्योहार के अवसर पर यहा भंडारा भी किया जाता है जहां लोग इसे मां काली का आर्शीवाद मानकर ग्रहण करते है। मंदिर के बाहर भारी तादात में बंदर पाए जाते है, इन बंदरो को माता का सेवक भी कहा जाता है।

Advertisement

डाट काली मंदिर को मां काली के चमत्कारी शक्तिपीठ के रूप में जाना जाता है, जो कि माता सती के 9 शक्तिपीठों में से एक है। देहरादून और सहारनपुर बॉर्डर पर स्थित इस मंदिर में यूं तो हर दिन श्रद्धालुओं की भीड़ लगी रहती है, लेकिन शनिवार को मां डाटकाली को लाल फूल, लाल चुनरी और नारियल का भोग चढ़ाने का विशेष महात्मय है। कहते हैं ऐसा करने से भक्तों की हर मनोकामना पूर्ण होती है। मंगलवार और गुरुवार सहित शनिवार को मां डाटकाली मंदिर में मां के भक्त विशाल भंडारे का आयोजन करते हैं। जब भी कोई व्यक्ति नया वाहन लेता है, तो वह सबसे पहले वाहन को लेकर विशेष पूजा अर्चना के लिए मां के दरबार में पहुंचता है। कहते हैं उनके वाहन में लगी मां की चुनरी हमेशा वाहन और वाहन चालक की सुरक्षा करती है। यही वजह है कि मंदिर के पास अक्सर नई गाड़ियों की कतार लगी दिखती है।

Advertisement

मां डाटकाली मंदिर के महंत रमन प्रसाद गोस्वामी कहते हैं कि मां डाट काली उत्तराखण्ड सहित पश्चिम उत्तर प्रदेश की ईष्ट देवी हैं। हर रोज मां के दर्शन के लिए सैकड़ों श्रद्धालु मंदिर में पहुंचते हैं और मां सबकी मनोकामना पूर्ण करती हैं। मंदिर के निर्माण की कहानी भी बेहद अद्भुत है। कहते हैं कि वर्ष 1804 में देहरादून-दिल्ली हाईवे पर सड़क निर्माण में लगी कार्यदायी संस्था सुरंग का निर्माण कर रही थी। लेकिन कंपनी दिन में जितनी सुरंग खोदती, तो रात को उतनी ही सुरंग टूट जाती थी। इससे वह परेशान हो गए। पहले मां डाट काली को मां घाठेवाली के नाम से जाना जाता था। कहते हैं कि मां घाठेवाली ने महंत के पूर्वजों के सपने में आकर सुरंग निर्माण स्थल पर उनकी मूर्ति स्थापना की बात कही थी। कार्यदायी संस्था ने ऐसा ही किया। इस तरह मां डाट काली का मंदिर अस्तित्व में आया। शनिवार को यहां विशेष पूजा अर्चना होती है। जिसमें हजारों श्रद्धालु अपनी मुराद लेकर मां के दरबार मे पहुंचते हैं।

Advertisement

मंदिर महंत ने बताया कि सिद्ध पीठ होने के चलते मंदिर का प्रसाद, धागा, चुन्नी, सिंदूर व मंत्र किया हुआ भस्म आदि सामग्री की मांग देश के कई कोने से श्रद्धालु करते रहते है। साथ पश्चिमी उत्तरप्रदेश व उत्तराखंड के श्रद्धालु जब नई गाड़ी लेते है तो माता के मंदिर की चुनरी बंधवाने मंदिर में जरूर आते हैं। महंत रमन प्रसाद गोस्वामी के अनुसार सच्चे मन से माता के दर्शन कर पूजा अर्चना करने वाले भक्तों की हर मनोकामना पूरी होती है। माना जाता है मंगलवार से 11 दिन तक विश्वास पूर्वक किया गया डाट चालीसा पाठ से सब मनोरथ पूर्ण होते है।

Advertisement

Advertisement
Advertisement

Related posts

सचिवालय में रन फॉर हेल्थ का किया गया आयोजन

pahaadconnection

गढ़वाल लोकसभा क्षेत्र में निर्वाचन के लिये दो नामांकन पत्र लिए गए

pahaadconnection

केदारनाथ गर्भ ग्रह प्रकरण की सरकार कराए उच्चस्तरीय जांच

pahaadconnection

Leave a Comment