Pahaad Connection
Breaking News
Breaking Newsदेश-विदेश

कौशल दीक्षांत समारोह आज के भारत की प्राथमिकताएं दर्शाता है : पीएम

Advertisement

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने आज वीडियो संदेश के माध्यम से कौशल दीक्षांत समारोह को संबोधित किया। सभा को संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री ने कहा कि कौशल विकास का यह उत्सव अपने आप में अद्वितीय है और देश भर के कौशल विकास संस्थानों के संयुक्त दीक्षांत समारोह का आज का आयोजन एक बहुत ही सराहनीय पहल है। उन्होंने कहा कि कौशल दीक्षांत समारोह आज के भारत की प्राथमिकताओं को दर्शाता है। प्रधानमंत्री ने प्रौद्योगिकी के माध्यम से इस आयोजन से जुड़े हजारों युवाओं की उपस्थिति को स्वीकार करते हुए सभी युवाओं को अपनी शुभकामनाएं दीं।

प्रधानमंत्री मोदी ने किसी भी देश की ताकत जैसे उसके प्राकृतिक या खनिज संसाधनों या उसकी लंबी तटरेखाओं का उपयोग करने में युवाओं की शक्ति के महत्व पर प्रकाश डाला और कहा कि देश मजबूत युवाशक्ति के साथ अधिक विकसित होता है, जिससे देश के संसाधनों के साथ न्याय होता है। प्रधानमंत्री ने इस बात पर जोर दिया कि आज समान सोच भारत के युवाओं को सशक्त बना रही है जो पूरे इको-सिस्टम में अभूतपूर्व सुधार कर रही है। प्रधानमंत्री ने कहा, ”इसमें देश का दृष्टिकोण दोतरफा है।” उन्होंने बताया कि भारत अपने युवाओं को कौशल और शिक्षा के माध्यम से नए अवसरों का लाभ उठाने के लिए तैयार कर रहा है, क्योंकि उन्होंने नई राष्ट्रीय शिक्षा नीति पर प्रकाश डाला जो लगभग 4 दशकों के बाद स्थापित की गई है। प्रधानमंत्री ने यह भी रेखांकित किया कि सरकार बड़ी संख्या में नए मेडिकल कॉलेज और आईआईटी, आईआईएम या आईटीआई जैसे कौशल विकास संस्थान स्थापित कर रही है। उन्होंने उन करोड़ों युवाओं का उल्लेख किया, जिन्हें प्रधानमंत्री कौशल विकास योजना के तहत प्रशिक्षित किया गया है। दूसरी ओर, प्रधानमंत्री ने कहा कि रोजगार प्रदान करने वाले पारंपरिक क्षेत्रों को भी मजबूत किया जा रहा है, जबकि रोजगार और उद्यमिता को बढ़ावा देने वाले नए क्षेत्रों को भी बढ़ावा दिया जा रहा है। प्रधानमंत्री ने भारत द्वारा माल निर्यात, मोबाइल निर्यात, इलेक्ट्रॉनिक निर्यात, सेवा निर्यात, रक्षा निर्यात और विनिर्माण में नए रिकॉर्ड बनाने और साथ ही अंतरिक्ष, स्टार्टअप, ड्रोन, एनीमेशन, इलेक्ट्रिक वाहन, अर्धचालक जैसे कई क्षेत्रों में युवाओं के लिए बड़ी संख्या में नए अवसर पैदा करने का भी उल्लेख किया।

Advertisement

प्रधानमंत्री ने इसके लिए भारत की युवा आबादी को श्रेय देते हुए कहा, “आज पूरी दुनिया इस बात पर विश्वास कर रही है कि यह सदी भारत की सदी होगी।” श्री मोदी ने रेखांकित किया कि जब दुनिया के कई देशों में बुजुर्गों की आबादी बढ़ रही है, भारत हर गुजरते दिन के साथ युवा हो रहा है। “भारत को इसका बहुत बड़ा फायदा है,” उन्होंने जोर देकर कहा कि दुनिया अपने कुशल युवाओं के लिए भारत की ओर देख रही है। उन्होंने बताया कि ग्लोबल स्किल मैपिंग को लेकर भारत के प्रस्ताव को हाल ही में जी20 शिखर सम्मेलन में स्वीकार कर लिया गया, जिससे आने वाले समय में युवाओं के लिए बेहतर अवसर पैदा करने में मदद मिलेगी। प्रधानमंत्री ने किसी भी अवसर को बर्बाद न करने का सुझाव दिया और आश्वासन दिया कि सरकार इस उद्देश्य का समर्थन करने के लिए तैयार है। श्री मोदी ने पिछली सरकारों में कौशल विकास के प्रति उपेक्षा की ओर इशारा करते हुए कहा, “हमारी सरकार ने कौशल के महत्व को समझा और इसके लिए एक अलग मंत्रालय बनाया और एक अलग बजट आवंटित किया।” उन्होंने रेखांकित किया कि भारत अपने युवाओं के कौशल में पहले से कहीं अधिक निवेश कर रहा है और प्रधानमंत्री कौशल विकास योजना का उदाहरण दिया जिसने युवाओं को जमीनी स्तर पर मजबूत किया है। प्रधानमंत्री ने बताया कि इस योजना के तहत अब तक करीब 1.5 करोड़ युवाओं को प्रशिक्षित किया जा चुका है। उन्होंने आगे कहा कि औद्योगिक समूहों के पास नए कौशल केंद्र भी स्थापित किए जा रहे हैं जो उद्योग को कौशल विकास संस्थानों के साथ अपनी आवश्यकताओं को साझा करने में सक्षम बनाएंगे, जिससे बेहतर रोजगार के अवसरों के लिए युवाओं के बीच आवश्यक कौशल समूह विकसित होंगे।

स्किलिंग, अपस्किलिंग और री-स्किलिंग के महत्व पर प्रकाश डालते हुए, प्रधानमंत्री ने नौकरियों की तेजी से बदलती मांगों और प्रकृति पर ध्यान दिया तथा तदनुसार कौशल को उन्नत करने पर जोर दिया। प्रधानमंत्री ने कहा कि इसलिए उद्योग, अनुसंधान और कौशल विकास संस्थानों के लिए वर्तमान समय के अनुरूप सामंजस्य होना बहुत महत्वपूर्ण है। कौशल पर बेहतर ध्यान देने का जिक्र करते हुए, प्रधानमंत्री ने बताया कि पिछले 9 वर्षों में देश में लगभग 5 हजार नए आईटीआई स्थापित किए गए हैं, जिसमें 4 लाख से अधिक नई आईटीआई सीटें शामिल हैं। उन्होंने यह भी उल्लेख किया कि सर्वोत्तम कार्य प्रणालियों के साथ कुशल और उच्च गुणवत्ता वाले प्रशिक्षण प्रदान करने के उद्देश्य से संस्थानों को मॉडल आईटीआई के रूप में उन्नत किया जा रहा है।

Advertisement

“भारत में कौशल विकास का दायरा लगातार बढ़ रहा है। हम केवल मैकेनिकों, इंजीनियरों, प्रौद्योगिकी या किसी अन्य सेवा तक सीमित नहीं हैं”, प्रधानमंत्री ने कहा क्योंकि उन्होंने उल्लेख किया था कि महिला स्वयं सहायता समूहों को ड्रोन प्रौद्योगिकी के लिए तैयार किया जा रहा है। रोजमर्रा के जीवन में विश्वकर्माओं के महत्व पर जोर देते हुए, श्री मोदी ने पीएम विश्वकर्मा योजना का उल्लेख किया जो विश्वकर्माओं को अपने पारंपरिक कौशल को आधुनिक तकनीक और उपकरणों के साथ जोड़ने में सक्षम बनाता है।

प्रधानमंत्री ने कहा कि जैसे-जैसे भारत की अर्थव्यवस्था का विस्तार हो रहा है, युवाओं के लिए नई संभावनाएं पैदा हो रही हैं। उन्होंने कहा कि भारत में रोजगार सृजन नई ऊंचाई पर पहुंच गया है और एक हालिया सर्वेक्षण के अनुसार भारत में बेरोजगारी दर 6 साल में सबसे निचले स्तर पर है। यह देखते हुए कि भारत के ग्रामीण और शहरी दोनों क्षेत्रों में बेरोजगारी तेजी से कम हो रही है, प्रधानमंत्री ने इस बात पर जोर दिया कि विकास का लाभ गांवों और शहरों दोनों तक समान रूप से पहुंच रहा है, और इसके परिणामस्वरूप, गांवों और शहरों दोनों में नए अवसर समान रूप से बढ़ रहे हैं। उन्होंने भारत के कार्यबल में महिलाओं की भागीदारी में अभूतपूर्व वृद्धि का भी जिक्र किया और महिला सशक्तिकरण के संबंध में पिछले वर्षों में भारत में शुरू की गई योजनाओं और अभियानों के प्रभाव को श्रेय दिया।

Advertisement

अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष द्वारा जारी हालिया आंकड़ों पर प्रकाश डालते हुए, प्रधानमंत्री ने बताया कि भारत आने वाले वर्षों में सबसे तेजी से बढ़ती प्रमुख अर्थव्यवस्था बना रहेगा। उन्होंने भारत को दुनिया की शीर्ष तीन अर्थव्यवस्थाओं में ले जाने के अपने संकल्प को भी याद किया और कहा कि आईएमएफ को भी भरोसा है कि अगले 3-4 वर्षों में भारत दुनिया की शीर्ष तीन अर्थव्यवस्थाओं में शामिल होगा। उन्होंने रेखांकित किया कि इससे देश में रोजगार और स्वरोजगार के नये अवसर पैदा होंगे।

प्रधानमंत्री ने संबोधन का समापन करते हुए स्मार्ट और कुशल जनशक्ति समाधान प्रदान करने के लिए भारत को दुनिया में कुशल जनशक्ति का सबसे बड़ा केंद्र बनाने पर जोर दिया। उन्होंने कहा, “सीखने, सिखाने और आगे बढ़ने की प्रक्रिया जारी रहनी चाहिए। आप जीवन में हर कदम पर सफल हों।”

Advertisement

 

 

Advertisement

 

 

Advertisement
Advertisement

Related posts

केंद्रीय बजट के जन-समर्थक पहलुओं पर प्रकाश डालें: मोदी ने भाजपा सांसदों से कहा

pahaadconnection

डा. निशंक ने उत्तराखंड को औद्योगिक विकास के तहत बजट स्वीकृत करने पर प्रधानमंत्री का आभार जताया

pahaadconnection

कावड़ यात्रियों की सुविधा के लिये लगाई गई फ्लेक्सी

pahaadconnection

Leave a Comment