Pahaad Connection
Breaking News
स्वास्थ्य और फिटनेस

चिंता और घबराहट विकार मां से बेटी तक जाता है, 10 साल तक बच्चों पर शोध किया गया

Advertisement

चिंता और घबराहट मां से बेटी को विरासत में मिली है। हालांकि, इस विकार के पिता से पुत्र में जाने की संभावना बहुत कम होती है। खास बात यह है कि अगर पिता को चिंता विकार नहीं है तो बेटे को चिंता विकार होने की संभावना न के बराबर होती है। कनाडा में डलहौजी विश्वविद्यालय में मनोचिकित्सा विभाग में सहायक प्रोफेसर पावलोवा के अनुसार, शोध में पाया गया कि माता-पिता दोनों को चिंता विकार होने पर बच्चों को स्थानांतरित करने की अधिक संभावना है।

चिंता विकारों के पैटर्न
यदि मॉडलिंग के कारण कोई बच्चा चिंता विकार विकसित करता है, तो मां से बेटी और पिता से पुत्र में संचरण के इसके पैटर्न अलग-अलग होते हैं। अध्ययन में पाया गया कि चिंता विकार वाले समलैंगिक बच्चों के माता-पिता में समस्या विकसित होने की संभावना तीन गुना अधिक थी। शोध में पाया गया कि जिन बेटियों की मां चिंता विकारों से पीड़ित थीं, उनमें चिंता का स्तर अधिक था। आपको बता दें कि इस स्टडी में ट्रांसजेंडर्स को शामिल नहीं किया गया था। दूसरे, इस अध्ययन में यह भी पाया गया कि पिता को चिंता विकार होने पर भी पुत्र में उसी समस्या की संभावना न के बराबर होती है।
बच्चे माता-पिता से सीखते हैं चिंता की आदतें
एक अन्य शोध में पाया गया कि बच्चे माता-पिता से अपने व्यवहार की नकल करते हैं। ऐसे में वह वही व्यवहार अपनाता है जो माता-पिता चिंतित होने पर करते हैं। दूसरी ओर, माता-पिता के चिंतित होने पर बच्चों के चिंतित होने की संभावना अधिक होती है।
Advertisement
Advertisement

Related posts

फरवरी में पहली बार छाया घना कोहरा, 27 फ्लाइट डायवर्ट, 50 लेट

pahaadconnection

कच्चे पपीते के सेवन से मिलेंगे आपको सेहत से जुड़े अनेक लाभ, जाने विस्तार से

pahaadconnection

गर्मियों में सेहत का रखे ख़्याल गन्ने का जूस है आपके लिए वरदान

pahaadconnection

Leave a Comment