Pahaad Connection
Breaking News
ज्योतिष

जानिए इसे किसे पहनना चाहिए और इससे क्या लाभ होते हैं

Advertisement

काला हकीक रत्न : काला हकीक रत्न धारण करने से पहले किसी ज्योतिषी की सलाह अवश्य लेनी चाहिए क्योंकि यह रत्न लाभ के साथ-साथ हानि भी पहुंचाता है।

प्रत्येक ग्रह का अपना रत्न होता है। जब कोई व्यक्ति इसे पहनता है तो उसके जीवन पर इसका सकारात्मक या नकारात्मक प्रभाव पड़ता है। जब किसी के जीवन में राहु और केतु क्रोधित होते हैं तो ज्योतिषी उससे बचने के लिए हकिक रत्न धारण करने की सलाह देते हैं ऐसा माना जाता है कि हकिक की माला से जप करने से भगवान शिव प्रसन्न होते हैं, यदि हनुमान जी के मंत्र का जाप हकीक की माला से किया जाए तो लाभ होता है। इस रत्न के बारे में कहा जाता है कि जीवन में चाहे कितनी भी मुश्किलें क्यों न आएं हकिक के प्रभाव से कष्ट दूर हो जाते हैं। आइए जानें कि जीवन से जुड़ी सभी समस्याओं को दूर करने और मनोकामना पूरी करने में यह रत्न कैसे कारगर साबित होता है।
यह अनुष्ठान करें
मंगलवार या शनिवार को सूर्योदय से पहले या प्रातः स्नान के बाद लॉकेट या अंगूठी बनाकर काला हकीक धारण करें। काली हकीक माला धारण करते हुए शनि और मंगल का स्मरण, पूरी श्रद्धा से शनिदेव की पूजा करें और शनि बीज मंत्र का 108 बार जाप करें- Om प्रं प्रां प्रौं सह शनिश्चरै नमः मंगल बीज मंत्र – Om क्रमं कृं क्रौं स: भौमय नमः: चौच करो। . ध्यान रहे कि काले हकीक का वजन कम से कम 8 से 10 रत्ती चांदी की धातु में धारण करना चाहिए।
असली रत्न के लाभ
अगर आप काम की वजह से तनाव में हैं तो तनाव से छुटकारा पाने के लिए हकीक रत्न पहनें।
जीवन में राहु, केतु और शनि के प्रभाव को कम करने के लिए सही रत्न धारण करें।
यदि आप सभी प्रकार की बाधाओं से छुटकारा पाना चाहते हैं तो असली रत्नों का हार धारण करें।
यदि आप किसी प्रतियोगिता की तैयारी कर रहे हैं तो सफलता प्राप्त करने के लिए हकीक रत्न को गले में ताबीज में धारण करें।
व्यापार में लाभ के लिए शुक्रवार के दिन 2 हक़ीक़त अपने कार्यस्थल पर कैशबॉक्स में रखें, ऐसा करने से धन में वृद्धि होगी।
यदि घर में विवाद हो तो शनिवार के दिन हकीम रत्न को घर के सदस्यों के सिर से हटाकर दक्षिण दिशा में फेंक दें। घर में सुख शांति बनी रहेगी।
शत्रुओं पर विजय पाने के लिए असली रत्न पर शत्रु का नाम लिखकर रात के समय दक्षिण दिशा में फेंक दें। इस उपाय को करने से शत्रु का नाश होता है।
यदि आप आर्थिक समस्याओं के कारण कठिनाइयों का सामना कर रहे हैं, तो पूजा कक्ष में दो असली रत्न रखें। इसके शुभ प्रभाव से जल्द ही आपकी आर्थिक परेशानी शुरू हो जाएगी।
असली रत्न के नुकसान
बिना किसी ज्योतिषी की सलाह के इस रत्न को धारण न करें, क्योंकि इसका बुरा प्रभाव पड़ता है।
रत्नशास्त्र के अनुसार काला रंग राहु के लिए, नीला रंग शनि के लिए, पीला रंग बृहस्पति के लिए, सफेद रंग चंद्रमा और शुक्र के लिए है, इसलिए ज्योतिषी को जन्म कुंडली दिखाने के बाद सही रत्न धारण करें।
हक्कीक रत्न धारण करते समय रत्ती को ध्यान में रखें क्योंकि इसका व्यक्ति के जीवन पर अच्छा मादक प्रभाव पड़ता है।
Advertisement
Advertisement

Related posts

होलिका दहन की पूजा से पहले इन बातों का जरुर रखे विशेष ध्यान

pahaadconnection

कुंडली में गुरु कमजोर हो तो पहने तुलसी की माला।

pahaadconnection

छुट्टिओ का महीना हे ये अगस्त। कई सारे तेहवार आ रहे हे इसी महीने में.

pahaadconnection

Leave a Comment