Pahaad Connection
Breaking Newsजीवनशैलीदेश-विदेशस्वास्थ्य और फिटनेस

अब सूरत में कैंसर के मरीजों का इलाज होगा और भी आसान, पूरे दक्षिण गुजरात में मात्र सूरत में इलेक्ट्रा वर्षा मशीन भरत कैंसर हॉस्पिटल में 26 करोड़ के खर्च पर लाया गया, गरीब और मध्यमवर्गीय लोगो के लिए

कैंसर
Advertisement

सूरत अब सूरत में कैंसर के मरीजों का इलाज और भी आसानी से हो सकेगा भारतीमैया मेमोरियल फाउंडेशन संचालित भरत कैंसर हॉस्पिटल में पूरे दक्षिण गुजरात में मात्र

अब सूरत में कैंसर के मरीजों का इलाज और भी आसानी से हो सकेगा भारतीय माया मेमोरियल फाउंडेशन संचालित भरथ कैंसर हॉस्पिटल में पूरे दक्षिण गुजरात में मात्र इसी अस्पताल में 26 करोड़ के खर्च पर लाया गया इलेक्ट्रा वर्षा मशीन से मरीजों का बेहद आसानी से एवं सटीक रूप से गांठ का पता लगाकर उसे रेडिएशन के बीम द्वारा नष्ट कर सकते हैं। इस मशीन से 4D इमेजेस मिलेंगे जिससे गांठ के आजू-बाजू के एरिया में नुकसान की संभावना बेहद कम होगी। आगामी 22 जनवरी को लोकार्पण होने जा रहे हैं इलेक्ट्रा कंपनी के वर्षा मशीन दक्षिण गुजरात में जो प्रथम सूरत में आया है यह मशीन एक ही गांठ नहीं परंतु कई गांठ को जरूरत के अनुसार इलाज देने की क्षमता रखता है इसके अलावा गांठ के पालन चलन के अनुरूप होकर रेडियो एक्टिव किरण ये मशीन देता है।
आम ट्रीटमेंट से 20% अधिक सक्सेस रेट देता है ये मशीन
इलेक्टा वर्षा मशीन में अत्याधुनिक उपकरणीय क्षमता रखता है। इसकी विशेषता यह है कि यह मा योजना या फिर आयुष्मान भारत योजना के मध्यम वर्गीय गरीब मरीज इस मशीन के इलाज का मुफ्त लाभ ले सकेंगे। सूरत शहर और दक्षिण गुजरात में ऐसे जरूरतमंद मरीजों को आधुनिक सेवा देने वाली प्रथम संस्था बनेगी। इस मशीन से बी9 जैसे कैंसर के ट्रीटमेंट आसानी से की जा सकती है। इसके अलावा यहां पर पेट स्कैन मशीन भी उपलब्ध है। इस मशीन की विशेषता बताते हुए डॉ नीलेश महाले ने बताया कि आम सीटी स्कैन से कैंसर की गांठ अच्छी तरह से नजर नहीं आता है पर पेट स्कैन की मदद से इसे आसानी से डायग्नोज किया जा सकता है और एक ही इन्वेस्टिगेशन में सभी जानकारी पाई जा सकती है। पेट स्कैन में एक्टिव सेल्स के ही सैंपल लिए जाते हैं जो कि नॉर्मल सीटी स्कैन से मुश्किल होता है। वर्षा एचडी मशीन स्विट्जरलैंड से 26 करोड़ के खर्च में मंगाया गया है। यह मूविंग टारगेट को भी स्कैन कर सकता है । जहां पर डॉक्टर ट्रीट नहीं कर सकते हैं उसे भी यह आसानी से ट्रीट कर सकता है। मां कार्ड या आयुष्मान कार्ड धारकों के लिए इस मशीन से इलाज दिया जा सकता है। हालांकि आमतौर पर इस इलाज का खर्च 45000 से 3.5 लाख तक होती है। इस मशीन से ट्रीटमेंट में आम इलाज से 20% अधिक सक्सेस रेट मिलती है।
Advertisement

Related posts

आप शाकाहारी कीटो आहार पर क्या खा सकते हैं? फिटनेस विशेषज्ञ जवाब देते हैं।

pahaadconnection

मुख्यमंत्री ने किया बाल गुरुकुलम का उद्घाटन सीएम ने किया गुरुकुलम विद्यालय के वार्षिक उत्सव में प्रतिभाग

pahaadconnection

जिलाधिकारी की अभिनव पहल से फरियादी में प्रसन्नता की लहर

pahaadconnection

Leave a Comment