Pahaad Connection
Breaking Newsजीवनशैलीज्योतिष

गायत्री मंत्र – एक बहुत शक्तिशाली मंत्र है जिसके सही जाप के द्वारा किसी की किस्मत चमक सकती है

गायत्री मंत्र
Advertisement

श्रीगणेश गायत्री मंत्र- गणेश गायत्री मंत्र एक बहुत शक्तिशाली मंत्र है जिसके सही जाप के द्वारा किसी की किस्मत चमक सकती है | इस मंत्र का जाप बुधवार को करना अत्यंत फलदायी माना जाता है | मंत्र के जाप के क्या लाभ होते है? – इस मन्त्र के जाप से व्यक्ति को बल, बुद्धि तथा विद्या की प्राप्ति होती है। – इन मंत्रों के प्रभाव से घर में सकारात्मक ऊर्जा का विकास होता है, तथा नकारात्मकता का नाश होता है। – विद्यार्थियों को श्री गणेश गायत्री मन्त्र का जप करने से अध्ययन में विशेष लाभ होता है तथा चित्त एकाग्र हो जाता है।

 

इस मन्त्र के जप के फलस्वरूप मनुष्य पर आने वाली विपत्तियों का नाश होता है तथा जीवन में सफलता की प्राप्ति होती है । -गणेश जी की असीम कृपा से घर में धन-धान्य तथा सुख का वास होता है | कैसे और कब करे जाप? – जिस दिन मंत्र जाप करना हो उस दिन सुबह सूर्योदय से पूर्व उठकर स्नान तथा नित्य क्रिया आदि से शीघ्र निवृत हो लें । – आसन पर बैठकर भगवान गणेश का आवाहन करें। – उन्हें दीप, धुप, सिंदूर, दूर्वा, गंध, अक्षत, फूल, जनेऊ, सुपारी, पान, फल, आदि अर्पित करें। – गणेश जी को दूर्वा बहुत प्रिय है,

Advertisement

  • श्रीगणेश गायत्री मंत्र-
गणेश गायत्री मंत्र एक बहुत शक्तिशाली मंत्र है जिसके सही जाप के द्वारा किसी की किस्मत चमक सकती है | इस मंत्र का जाप बुधवार को करना अत्यंत फलदायी माना जाता है |
  • मंत्र के जाप के क्या लाभ होते है?
– इस मन्त्र के जाप से व्यक्ति को बल, बुद्धि तथा विद्या की प्राप्ति होती है।
– इन मंत्रों के प्रभाव से घर में सकारात्मक ऊर्जा का विकास होता है, तथा नकारात्मकता का नाश होता है।
– विद्यार्थियों को श्री गणेश गायत्री मन्त्र का जप करने से अध्ययन में विशेष लाभ होता है तथा चित्त एकाग्र हो जाता है ।
-इस मन्त्र के जप के फलस्वरूप मनुष्य पर आने वाली विपत्तियों का नाश होता है तथा जीवन में सफलता की प्राप्ति होती है ।
-गणेश जी की असीम कृपा से घर में धन-धान्य तथा सुख का वास होता है |
  • कैसे और कब करे जाप?
– जिस दिन मंत्र जाप करना हो उस दिन सुबह सूर्योदय से पूर्व उठकर स्नान तथा नित्य क्रिया आदि से शीघ्र निवृत हो लें ।
– आसन पर बैठकर भगवान गणेश का आवाहन करें।
– उन्हें दीप, धुप, सिंदूर, दूर्वा, गंध, अक्षत, फूल, जनेऊ, सुपारी, पान, फल, आदि अर्पित करें।
– गणेश जी को दूर्वा बहुत प्रिय है,
Advertisement

Related posts

हमारा लक्ष्य किसानों की आय दोगुना करना : कृषि मंत्री

pahaadconnection

राज्य महिला आयोग की उपा़ध्यक्षा ने की समूहों की महिलाओं के साथ बैठक

pahaadconnection

जनपद देहरादून के 1100 स्थानों मे चलाया गया एक घंटा वृह्द सफाई अभियान

pahaadconnection

Leave a Comment