Pahaad Connection
Breaking Newsजीवनशैलीदेश-विदेशराजनीति

भले ही आप मेरा सिर काट लें, लेकिन…: महंगाई भत्ते पर ममता बनर्जी का बड़ा बयान

ममता बनर्जी
Advertisement

महंगाई भत्ते को लेकर पिछले कुछ दिनों से बंगाल में धरना-प्रदर्शन हो रहा है। राज्य सरकार के कर्मचारियों ने अतिरिक्त डीए की मांग की है। अब सीएम ममता बनर्जी ने इस पर सरकार का रुख स्पष्ट किया है।पश्चिम बंगाल में, विपक्षी भाजपा, कांग्रेस और वाम दल केंद्र सरकार के कर्मचारियों के बराबर महंगाई भत्ता या डीए की मांग कर रहे हैं। मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने महंगाई भत्ते के मुद्दे पर विपक्ष समर्थित प्रदर्शनों पर निशाना साधा है।

वहीं उन्होंने कहा है कि राज्य के पास अपने कर्मचारियों को अधिक वेतन देने के लिए फंड नहीं है। मुख्यमंत्री ने कहा, ‘ये और मांगते रहते है, और कितना दूं?

विरोध करने पर रोष व्यक्त किया

Advertisement

ममता बनर्जी ने विरोध प्रदर्शनों पर गुस्सा जताया है। उन्होंने कहा, “हमारी सरकार के लिए और अधिक डीए देना संभव नहीं है। हमारे पास पैसे नहीं हैं। हमने 3 प्रतिशत अधिक डीए दिया है। यदि आप इससे खुश नहीं हैं, तो आप मेरा सिर काट सकते हैं। और कितना डीए तुम्हें चाहिए?”

कहां से शुरू हुआ पूरा मामला?

Advertisement

राज्य की वित्त मंत्री चंद्रिमा भट्टाचार्य ने 15 फरवरी को विधानसभा में 2023-23 का बजट पेश किया। उस वक्त उन्होंने ऐलान किया था कि सरकार मार्च से शिक्षकों और पेंशनभोगियों समेत अपने कर्मचारियों को 3 फीसदी ज्यादा डीए देगी।

बता दें कि अब तक राज्य मूल वेतन का 3 प्रतिशत डीए के रूप में दे रहा था और बजट घोषणा का मतलब था कि सरकार मार्च से शिक्षकों और पेंशनभोगियों सहित अपने कर्मचारियों को 3 प्रतिशत अधिक डीए देगी।

Advertisement

ममता बनर्जी ने किया प्रहार

मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने अपने भाषण में लेफ्ट और बीजेपी पर निशाना साधा है। दोनों पार्टियां राज्य सरकार के कर्मचारियों को केंद्र सरकार के कर्मचारियों के बराबर करने की डीए की मांग का समर्थन कर रही हैं।

Advertisement

ममता बनर्जी ने पूछा, “केंद्र सरकार और राज्य सरकार का वेतन अलग-अलग है। आज भाजपा, कांग्रेस और सीपीएम एक साथ आ गए हैं। कौन सी सरकार वेतन के साथ इतनी छुट्टियां देती है?”

केंद्र सरकार से तुलना क्यों?

Advertisement

बंगाल की मुख्यमंत्री ने विपक्ष पर निशाना साधते हुए कहा, ‘मैंने सरकारी कर्मचारियों को 1.79 लाख करोड़ का डीए दिया है। हम 40 दिन का वैतनिक अवकाश देते हैं। आप केंद्र सरकार से तुलना क्यों करते हैं? हम मुफ्त चावल देते है। मगर रसोई गैस की कीमत मालूम है? वह चुनाव से ठीक एक दिन पहले कीमत बढ़ा दी गई थी। इन लोगों को संतुष्ट होने के लिए और क्या चाहिए?”

Advertisement
Advertisement

Related posts

110 वर्ष पुराने जौलजीबी मेले का शुभारंभ

pahaadconnection

हमारे सभी प्रवासी उत्तराखंडी देवभूमि के ब्रांड एम्बेसडर : सीएम

pahaadconnection

बढ़ रही डेंगू मरीजों की संख्या, दो दिन में मिले 38 मरीज

pahaadconnection

Leave a Comment