Pahaad Connection
Breaking News
उत्तराखंडज्योतिष

४ नवंबर को मनाया जाएगा इगास : डॉक्टर आचार्य सुशांत राज

Advertisement

 देहरादून।

डॉक्टर आचार्य सुशांत राज ने जानकारी देते हुए बताया कि इगास का पर्व दीपावली के 11 दिन बाद मनाया जाता है। इस दिन को लेकर उत्तराखंड में वर्षों से चली आई परंपरा है। देवभूमि में इस दिन भैलो खेला जाता है और साथ मिलकर खुशियां बांटी जाती हैं। वहीं, एक खास परंपरा यह है कि रक्षा बंधन पर हाथ पर बांधे गए रक्षासूत्र को बछड़े की पूंछ पर बांधा जाता है और मन्नत पूरी होने के लिए आशीर्वाद मांगा जाता है। साल 2022 में यह पर्व 4 नवंबर को पड़ेगा।

Advertisement


इगास का क्या है अर्थ :-
गढ़वाली बोली में इगास का मतलब एकादशी होता है। वहीं, बग्वाल का अर्थ है पाषाण युद्ध। हालांकि, पहले पाषाण युद्ध का अभ्याल दीपावली पर किया जाता है। कुछ समय बाद पाषाण युद्ध का अभ्यास तो बंद कर दिया गया, लेकिन दिवाली को पहाड़ों में बग्वाल कहा जाने लगा। इसलिए कार्तिक मास शुक्लपक्ष की एकादशी को मनाई जाने वाली दिवारी को इगास बग्वाल कहा जाता है। डॉक्टर आचार्य सुशांत राज ने बताया कि उत्तराखंड के गढ़वाल में सदियों से दिवाली को बग्वाल के रूप में मनाया जाता है। कुमाऊं के क्षेत्र में इसे बूढ़ी दीपावली कहा जाता है। इस पर्व के दिन सुबह मीठे पकवान बनाए जाते हैं। रात में स्थानीय देवी-देवताओं की पूजा अर्चना के बाद भैला जलाकर उसे घुमाया जाता है और ढोल नगाड़ों के साथ आग के चारों ओर लोक नृत्य किया जाता है। मान्यता है कि जब भगवान राम 14 वर्ष बाद लंका विजय कर अयोध्या पहुंचे तो लोगों ने दिए जलाकर उनका स्वागत किया और उसे दीपावली के त्योहार के रूप में मनाया। कहा जाता है कि गढ़वाल क्षेत्र में लोगों को इसकी जानकारी 11 दिन बाद मिली। इसलिए यहां पर दिवाली के 11 दिन बाद यह इगास मनाई जाती है। वहीं, सबसे प्रचलित मान्यता के अनुसार गढ़वाल के वीर भड़ माधो सिंह भंडारी टिहरी के राजा महीपति शाह की सेना के सेनापति थे। करीब 400 साल पहले राजा ने माधो सिंह को सेना लेकर तिब्बत से युद्ध करने के लिए भेजा। इसी बीच बग्वाल (दिवाली) का त्यौहार भी था, परंतु इस त्योहार तक कोई भी सैनिक वापस न आ सका। सबने सोचा माधो सिंह और उनके सैनिक युद्ध में शहीद हो गए, इसलिए किसी ने भी दिवाली (बग्वाल) नहीं मनाई। लेकिन दीपावली के ठीक 11वें दिन माधो सिंह भंडारी अपने सैनिकों के साथ तिब्बत से दवापाघाट युद्ध जीत वापस लौट आए। इसी खुशी में दिवाली मनाई गई। खास बात ये है कि यह पर्व भैलो खेलकर मनाया जाता है। तिल, भंगजीरे, हिसर और चीड़ की सूखी लकड़ी के छोटे-छोटे गठ्ठर बनाकर इन्हें विशेष रस्सी से बांधकर भैलो तैयार किया जाता है। बग्वाल के दिन पूजा अर्चना कर भैलो का तिलक किया जाता है। फिर ग्रामीण एक स्थान पर एकत्रित होकर भैलो खेलते हैं। भैलो पर आग लगाकर इसे चारों ओर घुमाया जाता है। कई ग्रामीण भैलो से करतब भी दिखाते हैं। पारंपरिक लोकनृत्य चांछड़ी और झुमेलों के साथ भैलो रे भैलो, काखड़ी को रैलू, उज्यालू आलो अंधेरो भगलू आदि लोकगीतों के साथ मांगल व देवी-देवताओं की जागर गाई जाती हैं।

Advertisement
Advertisement

Related posts

ग्राम्य विकास मंत्री ने किया कार्यालय का उद्घाटन

pahaadconnection

रिकॉर्ड श्रद्धालुओं की सुगम और सुरक्षित यात्रा का संपन्न होना संतोषजनक : भट्ट

pahaadconnection

मुख्यमंत्री ने दी दीपावली की बधाई

pahaadconnection

Leave a Comment