Pahaad Connection
Breaking Newsजीवनशैलीस्वास्थ्य और फिटनेस

हार्ट प्रॉब्लम: क्या ‘सीने में धड़कन’ जोर से होती है? सिर्फ प्यार ही नहीं, दिल की बीमारी भी हो सकती है!

हार्ट प्रॉब्लम
Advertisement

वैलेंटाइन डे नजदीक है, दिल की धड़कन तेज है। तो क्या आपको लगता है कि यह प्यार है? इसके बारे में सोचें, यह हृदय रोग की समस्या भी हो सकती है!

आजकल दिल से जुड़ी समस्या लोगों को ज्यादा प्रभावित कर रही है। साथ ही कई वयस्कों को हृदय रोग और उच्च हृदय गति सहित कई समस्याओं का सामना करना पड़ रहा है। इसके अलावा, हृदय की समस्याओं के किसी भी समय घातक होने की संभावना अधिक होती है। इसलिए इसकी जल्द पहचान करना बहुत जरूरी है। विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) के अनुसार, दुनिया भर में हर साल हृदय रोग से 17.9 मिलियन लोगों की मौत होती है। हृदय रोग की समस्या होने पर रक्त संचार बाधित हो जाता है।
हृदय रोग की स्थिति के मुख्य कारण
यह अक्सर चिकित्सा स्थिति को खराब कर देता है। खराब आहार और गतिहीन जीवन शैली दिल के दौरे और दिल से संबंधित बीमारियों के प्रमुख कारण हैं। इसके अलावा अनुवांशिक कारणों से भी हृदय रोग अधिक प्रभावित हो सकता है।
हृदय रोग की समस्या से कैसे बचें?
हृदय रोग से बचाव के लिए संतुलित जीवनशैली जरूरी है। दिल की बीमारी के शुरुआती लक्षणों में से कुछ के बारे में पता होना भी बहुत जरूरी है। आइए यहां ऐसे लक्षणों के बारे में जानते हैं।
छाती के चारों ओर जकड़न
इस प्रकार का सीने में दर्द तब होता है जब एनजाइना के कारण हृदय में रक्त का प्रवाह कम हो जाता है। एनजाइना की समस्या कोरोनरी आर्टरी डिजीज का लक्षण है। एनजाइना के दर्द से व्यक्ति के सीने में जकड़न, दबाव, भारीपन, जकड़न या दर्द होता है।
जबड़े और गर्दन में दर्द
हार्ट अटैक के दौरान दर्द सिर्फ सीने में ही नहीं होता, बल्कि बहुत तेजी से पूरे शरीर में फैल जाता है। इसके बाद जबड़े और गर्दन में बहुत दर्द होता है। गर्दन और जबड़े के क्षेत्र में अधिक दर्द को नजरअंदाज न करें। खराब नींद या अनिद्रा की समस्या भी हृदय रोग का संकेत हो सकती है।
सूजन और मतली
हृदय रोग से पीड़ित अधिकांश महिलाओं को सूजन और मतली का अनुभव होता है। ऐसी स्थिति में रोगी बेचैन महसूस करता है। इसके अलावा, सीने में दर्द और उल्टी और मतली होती है। इसलिए सपाट पेट या पेट की परेशानी को नज़रअंदाज़ न करें।
थकान महसूस कर रहा हूँ
कोई भी कठिन या थका देने वाला काम न करने पर भी थकान महसूस होना। शरीर के कुछ हिस्सों में पर्याप्त रक्त की आपूर्ति नहीं होती है । इससे ह्रदय संबंधित समस्या होती है। रोगी को सांस की तकलीफ और थकान का अनुभव होता है। पुरानी थकान के लिए डॉक्टर से सलाह लें।
चलने पर पैरों में सुन्नता
पैरों का सुन्न होना हृदय रोग का संकेत हो सकता है। टांगों में दर्द, चलने-फिरने में कठिनाई हृदय रोग का कारण बनता है। अब यह समस्या चलने और खड़े होने में होती है। यह परिधीय संवहनी रोग का संकेत भी हो सकता है।
Advertisement

Related posts

सुशासन दिवस के रूप में मनाया जाएगा अटल बिहारी वाजपेयी का जन्मदिन

pahaadconnection

पान के पत्ते के अलग-अलग प्रयोग से होंगी आपकी अनेक समस्याएं दूर, जाने विस्तार से

pahaadconnection

नगर निगम के रिकार्ड रूम से करोड़ों की संपत्ति की फाइलें गायब

pahaadconnection

Leave a Comment